मुखौटे/Masks

कॉलेज से कॉर्पोरेट में आने के कुछ ही दिनों बाद, यहाँ के वातावरण को देख चंद पंक्तियाँ मन में आयीं थी. ख़ैर अब तो कुछ समय यहाँ गुज़र गया हैं. अब मैं भी इसका हिस्सा हूँ, पर पंक्तियाँ अब भी प्रासंगिक हैं……सोचा कि आप सब तक भी ब्लॉग के माध्यम से इसको पहुंचा दूँ. आशा है आपको पसंद आयेगी .

Belonging from multilingual country, ubiquitous presence and acceptance of English and knowing that some of the reader base is from English background,  I tried to translate it. But I hardly believe that translation will do justice with the pristine typescript, which is in Hindi, as I lack poetic sense in English. Any way I have given a try. Hope you will like it.

 

चेहरे कम मुखौटे ज़्यादा

दिखतें हैं इस बाज़ार में

हम बेहतर हैं तुमसे!

सभी जुटे हैं इसी प्रयास में ||1||

जिसका चेहरा जितना बनावटी

वह उतना ही सफल है

छल प्रपंच से भरे खेल में

उसकी दांव प्रबल है ||2||

अपनापन का भाव कहाँ यहाँ पर

केवल स्वार्थ निहित है

भावना से भरे व्यक्ति की

हार यहाँ निश्चित है ||3||

…………अभय…………

Masks are conspicuous as the faces are heavily covered by it in this place. Most of them are engaged in proving themselves better than others. ||1||

Those who can mold their faces easily suiting to the person and circumstances they face, are assumed to be successful. In the world of  treachery and deceit , chances are there that they will emerge victorious. ||2||

Relationships are based on the vested interests of each other and those who are filled with emotions, for them situations are very bleak here ||3||

Advertisements

17 thoughts on “मुखौटे/Masks

  1. Nice Idea of hindi version. I like the idea behind the blog and will surely recommend others about it.
    But please view My Theory and read the new ultimate theory of human relativity a brand new idea.
    From your follower My Theory.

    Like

      1. क्षमा चाहूँगा भूलवश मैंने आपको फॉलो नहीं किया था उसी का परिणाम रहा की मै इतनी सुन्दर रचनाओं से वंचित रहा और आज देखा तो आनंद मिला

        Liked by 1 person

        1. अरे कोई बात नहीं मित्र, लिख लेता हूँ कभी कभी. वैसे उतना भी अच्छा नहीं जितना आप बता रहे हो. आपको अच्छी लगी यह जानकार बहुत ख़ुशी हुई. भविष्य में समय मिले तो पढियेगा..

          Liked by 1 person

          1. कभी खुद को पता नहीं होता जब दूसरे बताने लगे तो समझ जाइये आप कुछ अच्छा लिख रहे हैं 😁
            मुझे पढ़ने में आनंद आता है और कोशिश रहती है अधिक से अधिक ब्लॉग पढ़ने की बस समय के आभाव में कुछ अच्छे पोस्ट छूट जाते हैं

            Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s