मंज़िल मेरी ….

the ETERNAL tryst

img_20170119_080256 Clicked itin Bay of Bengal

मंज़िल मेरी ….

हूँ किस दिशा से आया,
जाना मुझे किधर है
हो मिलन जहाँ तेरा मेरा,
मंज़िल मेरी उधर है

आसमान से उतरी
और जब धरा पे ठहरी
अमावस की वो काली रात मानो
पूर्णमासी में हो बदली
कैसा अनुपम और मधुर
होता वो पहर है
हो मिलन जहाँ तेरा मेरा
मंज़िल मेरी उधर है

दूबों पर पड़ी ओस जैसी
हो तुम निर्मल
फूलों की पंखुड़ियों जैसी
हो तुम कोमल
मेरे मन से टकराती हर पल
तेरी यादों की लहर है
हो मिलन जहाँ तेरा मेरा
मंज़िल मेरी उधर है

नज़रों से होकर ओझल
जाने कहाँ भटकती
बिन देखे तुम्हें एक पल भी
साँसे मेरी अटकती
लौट चलो हैं जहाँ शहर मेरा
कि वहीं कहीं, तेरा भी तो घर है
हो मिलन जहाँ तेरा मेरा
मंज़िल मेरी उधर है

………अभय …………

Hello Friends, Once again I have given a try to translate my poem…

View original post 176 more words

Advertisements

23 thoughts on “मंज़िल मेरी ….

  1. Khoob

    Liked by 1 person

  2. Beautiful lines abhay… “mere mann se takraati tere yadon ki lehar ho milan jaha tera mera manjil meri udar” great meaningful line 👍

    Liked by 2 people

    1. Thank you Monika, I have written and published it earlier in my blog, but today again re-blogged it. One of composition which is dear to me. ☺️

      Like

  3. हो मिलन जहाँ तेरा मेरा
    मंज़िल मेरी उधर है

    शानदार पोस्ट 👍👍👍👍👍👍👍👌👌👌👌

    Liked by 1 person

    1. शुक्रिया अजय जी ☺️

      Liked by 1 person

  4. दूबों पर पड़ी ओस जैसी
    हो तुम निर्मल
    फूलों की पंखुड़ियों जैसी
    हो तुम कोमल
    मेरे मन से टकराती हर पल
    तेरी यादों की लहर है
    हो मिलन जहाँ तेरा मेरा
    मंज़िल मेरी उधर है

    वाह भाई आज तो छा गए आप बहुत ही सुंदर रचना की
    वाकई लाज़वाब है

    Liked by 1 person

    1. शुक्रिया मुकांशु जी, यह पुरानी रचना है। आज re-blog किया।

      Liked by 1 person

      1. कोई नी जी हमनें तो आज ही पढ़ी है
        शुक्रिया आपका re-blog करने के लिए

        Liked by 1 person

        1. शुक्रिया आपका कि आपने समय दिया 🙏

          Liked by 1 person

  5. Beautiful beautiful words👏

    Liked by 1 person

    1. Thank you, though it’s not just the words only 😜😜

      Liked by 1 person

      1. Hahaha I said about the choice of words.. You took it other way 😆😆

        Like

  6. गज़ब अभय भाई।
    शब्दो का कहर ढाये हो आज।
    👌👍

    Liked by 1 person

    1. भावनायें है महाराज… 😜😜

      Liked by 1 person

  7. बहुत ही अच्छा लिखा है अभय जी। re- blog karanese naye followers bhi aap ki rachna padh skege jase main hi nahi padhi thi.

    Liked by 1 person

    1. जी धन्यवाद ☺️🙏

      Like

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this:
search previous next tag category expand menu location phone mail time cart zoom edit close