अंतिम न्याय

Symbolic
Image Credit: Google 

अंतिम न्याय

ये जहाँ है आपका
मुझपर आरोप भी आपके
है न्यायलय भी आप ही का
और न्यायाधीश भी आप ही के

न कोई गवाह है संग मेरे
और न कोई सबूत बचा है
मेरी दलीलें को रखने को
न कोई वकील रज़ा है

सुना है कोई अदालत है
इन सब अदालतों से ऊपर
और कहीं निष्पक्ष भी
अंतिम हाज़िरी सबको वहीं लगानी है

मेरा कर्म ही बनेगा मेरी गवाही
और मेरा सबूत भी
वहाँ फरेब की न कोई गुंजाइश बचेगी
शायद, अंतिम न्याय मुझे वहीं मिलेगी

 

……….अभय………

Advertisements

24 thoughts on “अंतिम न्याय

  1. BAHUT HI BEHTARIN KAVITA ABHAY JI

    Liked by 1 person

  2. Beautiful poem!! I loved the conclusion!! Our karma going to decide the justice!! No words for the outstanding poem

    Liked by 1 person

    1. Ahh… Thanks so much for your kind words. 😇😇

      Liked by 1 person

  3. बहुत ही सही और मन को छू लेने वाला पोस्ट है। इस पर आपको एक भोजपुरी भजन कमेंट करती हूं जो पोस्ट से रिलेटेड है
    नाहीं जा हाई कोर्ट ना सुप्रीम कोर्ट चल माई के अदालत में दूध के दूध होई पानी के पानी चल माई के अदालत में। माईए सबूत माईए गवाह माईए वकील माईए न्यायाधीश।

    Liked by 1 person

    1. शुक्रिया ☺️

      Like

  4. bahut badhiyaa Abhay ji……..uske nyaay se kaun bachaa hai…

    Like

  5. Bahut बढ़िया।और सही कहा।

    Liked by 1 person

    1. शुक्रिया गौरव!

      Liked by 1 person

    1. शुक्रिया मुकांशु भाई, बहुत दिनों बाद पधारे ☺️

      Like

      1. जी पढाई के चलते इस ओर आना कम ही होता है…
        पर जब भी आता हूं आप से मुलाकात जरूर करता हूँ ।

        Liked by 1 person

        1. सही है भाई! एकाग्रता आवश्यक है पढ़ाई में। शुभकामनायें

          Liked by 1 person

          1. हिये तनो आभार

            Liked by 1 person

  6. बहुत ही सुन्दर

    Liked by 1 person

    1. अशोक बाबू, शुक्रिया 🙏

      Like

  7. True…Our karma will judge our fate and He is the Supreme Judge. Beautifully penned!

    Like

    1. Indeed, it is said that He is omniscient and omnipresent. Thank You!!!

      Liked by 1 person

  8. Beautiful…loved it a lot.

    Liked by 1 person

  9. Meaningful… Mera karm hi banega meri gawahi.. Waaah

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this:
search previous next tag category expand menu location phone mail time cart zoom edit close