प्रकृति पुकारती

प्रकृति पुकारती

गंगा हुई गन्दी
यमुना मैली
मैला हुआ धरती का आँचल
शोषण के रुदन क्रंदन से
फ़ैल गया आँखों का काजल

मुरझाये कुसुम
पीले परे पत्ते
सूखी, सारी शाखायें
वन विवश हो विनती करता
निरीह दृष्टि हमपर टिकाये

हम  निशब्द निरुत्तर
निश्चिंत बने बैठे
कहते, ये तो यूँ ही चलता है
शोषण के विरुद्ध जो न आवाज़ उठाये
उसका हश्र यही होता है

आवाज़ उठाएगी धरनी तो क्या
उसका दंश सह पाओगे
धरती के हश्र की बातें करते हो
समूल नष्ट हो जाओगे
और, फिर कुछ नहीं कर पाओगे

………अभय………

 

Advertisements

40 thoughts on “प्रकृति पुकारती”

  1. हुत ही सही बात लिखी है निरंतर आपदाओं का बोझ सह पाना मुश्किल हो जाएगा , जब वो जाग्रत होगी तों सबको सोना पड़ेगा

    Liked by 1 person

  2. अप्रतिम। खासकर शब्द-चयन और उपमा।
    “मैला हुआ धरती का आँचल
    शोषण के रुदन क्रंदन से
    फ़ैल गया आँखों का काजल।”

    Liked by 1 person

      1. अभय जी आजकल क्या बात है मेरे रचनाओं पर कोई कमेंट नहीं। समय की कमी तो वजह नहीं हो सकती क्योंकि दूसरों के ब्लॉग पर टिप्पणी करते हुए दिखे कुछ गलती हुई हो तो नारी भी प्रकृति का ही रूप है उसी रूप में माफ कर दीजिएगा। 🙏

        Like

        1. अरे नहीं ऐसी कोई बात नहीं है ! आजकल wordpress कम ही access करता हूँ, और सबकी रचना भी नहीं देख पाता! बहुतों की शिकायत है.

          Like

    1. शुक्रिया भाई, हाँ प्रलय की संभावना प्रबल हो जाएगी अगर हम नहीं बदलेंगे!

      Liked by 1 person

  3. शोषण के विरुद्ध जो न आवाज़ उठाये
    उसका हश्र यही होता है—-बहुत बढ़िया कविता दोहरा प्रहार करता हुआ अथाह संदेश।

    Liked by 1 person

    1. कहाँ रह रहे हैं मधुसूदन जी आजकल, आपकी प्रतिक्रिया बहुत देर से आयी इस बार , ऐसे नहीं चलेगा 😀

      Like

  4. Hi abhay, I nominated you for a Mystery Blogger Award! This is in no way obligatory. But I hope you participate. “Mystery Blogger Award” is an award for amazing bloggers with ingenious posts. Their blog not only captivates; it inspires and motivates. They are one of the best out there, and they deserve every recognition they get. This award is also for bloggers who find fun and inspiration in blogging; and they do it with so much love and passion. Okoto Enigma

    Liked by 1 person

    1. Hey Sadhana!
      Thank you so much for nominating me for the award. I am overwhelmed and it’s pleasing that my creations has gained your appreciation in terms of this nomination. Thank you once again. 😊

      Like

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s