मुर्दों की बस्ती..

        Embed from Getty Images

मुर्दों की बस्ती

मोल लगा लो पैसे हों तो

यहाँ ईमान बहुत ही सस्ती है

ये मुर्दों की बस्ती है

 

शुचिता के सब स्वांग रचे हैं

पर, बिकी हुई हर हस्ती है

ये मुर्दों की बस्ती है

 

कलंक का डर अब किसे यहाँ पर

स्वाभिमान गर्त तक धसती है

ये मुर्दों की बस्ती है

 

पीड़ित जन हैं, वे सांत्वना भी देंगे

पर उनके ह्रदय में घोर मस्ती है

ये मुर्दों की बस्ती है

 

देखता मैं भी महल-अट्टालिका,

झोपड़पट्टी पर ही नज़र टिकती है

हाँ, ये मुर्दों की ही तो बस्ती है

……..अभय…….

 

शब्द सहयोग:

शुचिता: Chastity, Purity