अपनी राह../ My Way

अपनी राह..

राहों को अपनी, मैं खुद ढूंढ लूंगा

बन पथप्रदर्शक तुम, मुझे न उलझाओ||

मेरे उम्मीदों को अब, पर जो लगें है

अपनी आसक्तियों की, न जाल बिछाओ||

कष्टों का पहाड़ सीधे सिर पर सहा है

राह के रोड़ों से तुम, मुझे न डराओ||

सच है जो कड़वा, मैंने खुद चख लिया है

उसपर झूठ की मीठी तुम, परत न चढ़ाओ||

मंज़िल है मुश्किल औ’ लंबा सफर है

जो बीच में हो जाना, शुरू से साथ न आओ||

ज्ञान की दीपक अब जो जली है

अपने आंसुओं से उसे न बुझाओ||

जाना जहाँ है, राहों में कांटे बिछे हैं||

मेरे लिए अभी फूलों की हार न लाओ||

निराश लोगों की लम्बी पंगत लगी है

सांत्वना भरे गीत तुम, उन्हें ही सुनाओ||

नम्रता में मैंने जीवन है जीया

मेरे खुद पे भरोसे को, मेरा अहम् न बताओ||

………..अभय…………

My Way

I will carve out my own way

Don’t pretend to be my guide and confuse me

My aspirations have found its wings

Don’t entrap it by your frail attachment

I have already faced mountainous hardships

Don’t scare me, with the petty pebbles of the road

I have already tasted the bitter truth

Don’t present it to me by coating sugar on it

All my ignorance is burning in the bonfire of Knowledge

Don’t extinguish it with your incessant tears

Destination is distant and path is treacherous

Don’t accompany me, if you are thinking of leaving in midway

There seems to be a long queue of despondent

Don’t console me, go and cheer them up

I have spent my whole life in humility

Don’t term my self-belief, as an act of arrogance

@Ab

41 thoughts on “अपनी राह../ My Way”

  1. Thank you so much for taking your time and doing it. I found it simple yet full of meaning. I wish I was fluent in hindi.😁 The poetry’s essence might be in the language as I can relate to my mother toungue poems as well. Once again , thank you.😊

    Liked by 2 people

  2. I hope you are aware that old wine in new bottle gives the same level of satisfaction when tasted each time!Thereby let no language be a bar in making your words reach out to the masses.Keep it up AR sir.

    Liked by 1 person

  3. अतिसुन्दर

    “अपनी राह” आरंभ में अहं भाव को लिए बहुत ही भारी लगती है किंतु अपने अंत तक आते आते अपने मूल स्वरूप से पाठक को परिचित करवाने का अद्भुद गुण रखती है, जो सही में कविता होने का धर्म निभाती है।

    Liked by 1 person

    1. शुक्रिया की आपने पढ़ा और आपको अच्छी लगी..कविता का धर्म तो मुझे नहीं पता बस समझ लीजिये भावों को लयबद्ध करने का प्रयास रहता है..कई बार हो जाती हैं, कई बार रह जाती हैं 🙂

      Like

  4. “जाना जहाँ है, राहों में कांटे बिछे हैं||
    मेरे लिए अभी फूलों की हार न लाओ||”

    अभिलाषाओं से परे…..

    “निराश लोगों की लम्बी पंगत लगी है
    सांत्वना भरे गीत तुम, उन्हें ही सुनाओ||”

    बहुत ही सकारात्मक है….

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: