चक्रवात..

चक्रवात ये जो तेरी यादों का समंदर है लगे जैसे कोई बवंडर है मैं ज्यों ही करता इनपे दृष्टिपात मन में उठता कोई भीषण चक्रवात मैं बीच बवंडर के आ जाता हूँ और क्षत विछत हो जाता हूँ इसमें चक्रवात का क्या जाता है वह तो तांडव को ही आता है अपने हिस्से की तबाही …

Continue reading चक्रवात..

Advertisements

विडंबना..

वो झूठ था मैं जानता था पर, सच को न जानने की ढोंग मैं करता रहा काश! मेरे उस ढोंग को तुम जान लेते मेरे हर झूठे हँसी में छिपे आह को , तुम पहचान लेते और अब जब कि वर्षों बाद तुमने ये जान लिया है कि मैं वो सच जानता था तो विडंबना …

Continue reading विडंबना..

साहस ..

दो परिस्थितयां हैं …एकदम सीधी सी, सुलझी हुई …पहला, जो साहसी होते हैं वो साहस से भरा कार्य करते हैं और  दूसरा, साहसिक कार्य करने से ही लोग साहसी कहलाते हैं ..तो हम किसी भी परिस्थिति में क्यों न हों, साहसी बनने का बराबर मौका है...

The Cost of Sunday

Today, it’s neither 15th of August nor 26th of January. Yesterday, India also hasn’t registered any spectacular victory in a Cricket match over its arch rival, western neighbor. More than one year has been passed, when Indian Armed Force conducted a Surgical Strike in terrorists’ safe heaven. Can I discuss something patriotic today? Good Morning …

Continue reading The Cost of Sunday

मेरा मन..

  मेरा मन जहाज़ सा, उड़ने वाला नहीं तैरने वाला, पानी का जहाज और तुम सागर सी, हिन्द महासागर नहीं प्रशांत महासागर अथाह, असीमित, अन्नंत मन चंचल था मेरा, तैरता तुममें कभी शांत कभी हिचकोले करता हुआ पर वह अब डूब रहा है गर्त में, तह तक जैसे किसी सागर में कोई जहाज डूबता है, …

Continue reading मेरा मन..

जिद्दी मन..

  पावों में हैं बेड़ियाँ हाथों में है पाश मैं खड़ा जमीं पे पर, दृष्टि में आकाश सुविधाएँ तो थी नहीं साधन भी मुझे मिला नहीं दर-दर की ठोकरे खायीं पर, किसी से कोई गिला नहीं सब कहते हैं, भाग्य में हो जितना केवल, उतना ही तो मिलता है पर करें क्या कि, जिद्दी है …

Continue reading जिद्दी मन..