On the floor..

Ananda was the dear most and very prominent disciple of Gautam Buddha. Many scriptures are filled with their conversations. Through their conversations, we got to know some of the basic teachings and doctrines of Buddhism. The relationship between Guru and his disciples has always been a revered one in India. The place of Guru has …

Continue reading On the floor..

Advertisements

Contemplation..

I like sitting silently in any natural setting, contemplating on myriad thoughts. In cities, now there are hardly any pristine locations where one can sit and listen the chirps of the birds and can float in his/her imagination. But, of course, manmade parks come to rescue me at many occasions. If there is no one …

Continue reading Contemplation..

मधुराष्टकम्/ Madhurashtkam

नमस्ते मित्रों ! गीत या काव्य अभिव्यक्ति की वह विधा है जिसमें लेखक या कवि विषय भाव के सागर में डूब कर अमूल्य मोती बाहर ले आता है! जो चीजें दिखती हैं, उसके बारे में लिखना आसान होता है, परन्तु मैं यह सोचने पर विवश हो जाता हूँ कि कोई व्यक्ति भगवान कि विषय में …

Continue reading मधुराष्टकम्/ Madhurashtkam

जीत-हार

जीत-हार हार के कगार पे बैठे जो मन हार के आगे कुछ दिखता नहीं अश्रु धार थमता  नहीं शत्रु जो सब कुछ लूट गया स्वजनों का संग भी छूट गया ह्रदय वेदना से भरी हुई जो खुद की बोझ भी सहती नहीं वो याद रहे हरदम ज़िंदा हो अभी , मरे न तुम वह कल …

Continue reading जीत-हार

स्मरण

स्मरण आशंकाओं से घिरे पहर में ,    दुविधाओं के बीच भंवर में,      दर्द भरी आहों में,       या सूनी राहों में          मरुभूमि के टीलों में            नेत्र बनी जो झीलों में              या बंजर मैदानों में   …

Continue reading स्मरण