When to speak…Whom to speak

बसंत तो अब बीत चुका है

कुहू तो बस अब मौन रहेगा

क्षितिज पर कालिख बदरी छायी है

सब दादुर अब टर-टर करेगा

                                       ~अभय

 

Spring has gone

Cuckoo will not sing any more

Dark clouds are hovering in the sky

Oh! It’s time for the frogs

                                                                                                 ~Abhay

 

कुहू- कोयल
दादुर- मेढ़क

आप पंक्तियों को खुद से जोड़ पाए तो मैं अपनी सफलता मानूंगा..

Advertisements

बेख़ौफ़!

बेख़ौफ़! अँधेरी रातों में, हाथों में लिए दीया , ये कौन चल रहा है?

हैरान हूँ! मैं इस ज़माने से, जाने क्यों वो उससे, इस क़दर जल रहा है?

                                                                                                                                             ~अभय

Reflect, don’t cling.

past
Credit: Google Image

Our past is nothing but stagnant water. As you grow old, the amount of water gets added to it. More water, then more and more. Still water has a tendency to decay gradually. After some time it smells bad, it stinks. But in the perspective of our past, this analogy may not hold 100% correct as we cherish some of them, if not all. I have seen people and also read some of them when they open up on Word Press that their constant source of misery is their past. Past is a vicious trap (ironically, created by themselves) which they find difficult to come out. Initially they cling on it, later clinging on past becomes their habit and we all know to change habit is mountainous task. As I mentioned earlier, stagnant water stinks after few days. But there is a specialty of still water. We can see our reflection very clear in stationary water, which we will not find in water with motion. Reflection of past is good for progress, clinging on it may not so.

बस तेरा इंतज़ार है..

universe_download
Credit: Google Image

धम से गिरे
धरनी पर
शिखर से,
ज़ख्म गहरा हुआ
चोट हरा हुआ
पर गिरने का यह पहला
वाक़या तो न था
कई पहले भी लुढ़के
गिरे गर्त में
वर्षों तक
सिसकते रहे
मरणासन्न रहे
संवेदनहीन रहे
निर्जीव सा गौण रहे
व्योम सा मौन रहे
पर लड़ते रहे
जूझते रहे
झुलसते रहे
आपदाओं में
विपदाओं से
लोगों की विष भरी
बोली से
आलोचकों की अगणित
टोली से
तो तुम जो गिर गए
तो इसमें नया क्या था?
कि अब तुम उठते ही नहीं
कि तन के ज़ख्म भी
जब सूखते हैं
हम उसे कुरेदते नहीं हैं
तो मन के ज़ख्म पर
ये अत्याचार क्यों?
स्मरण रहे कि
जो शिखर पर तुम पहुंचे थे
तब भी पुरुषार्थ लगा था
फिर से पुरुषार्थ लगेगा
कि तुममें जो नैसर्गिक है
वो भला तुमसे कौन लेगा?
कि अब दुर्बलता छोड़ो
कि सब तैयार हैं
हिमालय की
सबसे ऊँची चोटी को
बस तेरा इंतज़ार है

…….अभय …….

कविता का भाव आप लोगों तक पहुंचा हो, तो अपने भाव मुझ तक पहुँचाना न भूलें 🙂

शब्द सहयोग:
गौण: Subordinate, Secondary
व्योम: Sky, Space
नैसर्गिक: Inherent