दीप, अंधकार, प्रकाश और मैं..

नमस्ते मित्रों, कैसे हैं आप लोग? पिछले कुछ समय से समय की व्यस्तता के कारण हिंदी कविताओं का सृजन और उनका प्रेषण नहीं कर पा रहा था. पर सिर्फ समय को दोष दूँ तो कोई ठीक बात नहीं, समय के संग संग मन में भी विचार पनपने चाहिए और खास कर तब जबकि आप कोई पेशेवर कवि न हों.
कई दिनों बाद आज कुछ विचार आया आप तक पहुँचाता हूँ, ज़रा संभालना 🙂

Embed from Getty Images

जो तुम दीप बुझा दोगे अपनी
घोर अँधेरी रातों में
और सोचोगे कि मैं अब संग मौजूद नहीं
तो मैं बता दूँ आपको कि
मैं न तो प्रदीप्त प्रकाश हूँ
न ही खामोश अंधकार कोई
मेरा अस्तित्व न तो
चंद दीयों पर निर्भर करता है
दीये के जलने पर भी मैं हूँ
दीये के बुझने पर भी मैं ही
माना नज़र न आ सकूँ
पर नज़र न आना और अस्तित्व न होना
दोनों एक बात तो नहीं
बोलो, है कि नहीं ?

…….अभय…….

Advertisements

जाल ..

“मानव ईश्वर की सबसे श्रेष्ठ रचना है” एक वक्ता को जैसे ही मैंने कहते हुए सुना, मन में सैकड़ो ख्याल सरपट दौड़ने लगे. अब क्या कहूँ, कोई योगी तो हूँ नहीं कि एक बार में एक ही ख्याल से मनोरंजन कर सकूँ या विचारशून्यता की सतत स्थिति में रहकर परम आनंद का अनुभव ले सकूँ! हाँ भाई, विचार शून्यता भी आनन्द है..कभी खुद अनुभव नहीं किया तो उनसे पूछिये जो विचारों के अनंत प्रहार से सतत छत-विछत होते रहते हैं और सोचते हैं कि मन में कोई विचार न आता तो श्रेयस्कर रहता..

Embed from Getty Images

खैर, वापस विषय वास्तु पर आते हैं “मानव ईश्वर की सबसे श्रेष्ठ रचना है”. क्यों भाई? यदि कुत्ते आपस में बात कर रहे होते तो वे भी यह कह सकते थे “कुत्ते, ईश्वर की सबसे श्रेष्ठ रचना है”!!! या फिर गधे!!! या शेर !!!

पर मनुष्य उनकी बातों पर विश्वास नहीं कर पाते. क्यों? कारण स्पष्ट है. मानव अपने विचारों का उपयोग करके जितने भी जीव हैं उन सब पर नियंत्रण कर सकता है. अपना प्रभुत्व जमा सकता है. अपने बुने हुए जाल में अन्य सभी जीवों को फ़ांस सकता हैं. अन्य जीव ऐसा नहीं कर सकते. क्या कभी सुना हैं कि मनुष्य मछली के जाल में फँस गया!!! हा!!! लोग पागल ही कहेंगे, यदि आपने अपने मन में ऐसा विचार भी लाया तो!!!

तो फिर मनुष्य महान क्यों ? और अधिक गहन चिंतन करने पर मेरे मन में यह विचार कौंधा. ब्लॉग पर विचार व्यक्त करने कि आजादी होती है, चाहे विचार कैसा भी हो, जो दूसरों को आहत न करे. और भारतीय संविधान के आर्टिकल 19(2) के तहत यह मेरा मौलिक अधिकार भी है. अब आप सम्भालिये इसे..

मनुष्य महान इसलिए कि यह वह जाल बुन सकता है, उस जाल कि विशेषता यह है कि अगर अन्य प्राणी जाल बनाते तो उसका उपयोग वह दूसरे प्रजाति को फांसने में लगाते. पर मनुष्य तो श्रेष्ठ जीव हैं, तो कुछ अलग तो बनता है. मनुष्य श्रेष्ठ इसलिए कि वह आपने बनाये जाल में खुद ही फँस सकता है और अक्सर ही फँसता हैं, खुद ही फँसकर उसमे तड़पता है, छटपटाता है, और जब कष्ट असह्य हो जाता है, तो वह पुनः मुक्ति का मार्ग ढूँढता है….

खुद ही जाल बुनो, उसमें फँसो और फिर मुक्ति का मार्ग ढूंढो…यह चक्र मजेदार है न??

चलिए अभी जाते-जाते संस्कृत की एक उक्ति आपके लिए छोड़ जाता हूँ.. ज्यादा चिंतन मत कीजिये.. क्योंकि अत्यधिक चिंतन भी एक जाल हैं

सा विद्या या विमुक्तये।
ज्ञान वह है जो मुक्त कर दे!!

एक और दिसंबर बीत गया..

Pondi
Sun Rise or Sun Set? Clicked it in Pondicherry, Bay of Bengal

एक और दिसंबर बीत गया

अभी तो सूरज निकला ही था
और झट में फिर वो डूब गया
एक और दिसंबर बीत गया

अभी बसंत की हुई थी दस्तक
पर अब, पत्ता पत्ता सूख गया
एक और दिसंबर बीत गया

जनवरी में कई कस्में खायी थी हमने
पर अगणित बार वो टूट गया
एक और दिसंबर बीत गया

लाख कोशिशें कर उन्हें मनाया था हमने
पर एक नादानी से वो, हरपल के लिए रूठ गया
एक और दिसंबर बीत गया

हार की कई गाथाएं लिख दी इसने
पर आशाओं के कई पन्नों को भी जोड़ गया
एक और दिसंबर बीत गया

सोचा शाश्वत सा यह पल है
पर बारह किश्तों में ही पीछा छूट गया
एक और दिसंबर बीत गया

स्मृति पटल पर कुछ धुंधले चेहरे
और कई नई छवि को जोड़ गया
एक और दिसंबर बीत गया

स्थिरता मरण, गति जीवन है
शायद से वो, चीख-चीख कर बोल गया
एक और दिसंबर बीत गया

………अभय ………

 

Controversy..

Hello friends!

We do have a tendency to remember those things for longer span which have been subjected to controversy. Isn’t it?

That is why, whenever any new movie is getting released, you will start to hear so many controversies related to the actor(s) of the movie, related to the story (I am not referring only to Padmavati) or any such sort. This is even true whenever an election is slated to happen, issues such as reservation, triple talaq, intolerance in India; immigration issue, Gun Policy in US election etc. etc. will surface.  At many times these controversies are deliberately created by the stakeholders. The reason being very simple, these controversies remain in the mind of the common people for longer period and hence they also try to give their expression in any form. For film, they can give their expression by going to any PVR or in politics they will cast their vote to a specific party who is able to touch their sentiments.

But the fact is that there are issues much beyond the hullabaloo prevailed among the general mass and many of the important issue gets eclipsed in rumors.

Let me ask a very simple question, and I hope everybody among you (if you are an Indian Citizen and not a foreigner) would be able to answer it, right or wrong that is different question all together.

My question is: How many times in the History of independent India, Emergency has been imposed?

I know you know the answer, Don’t you? (DON’T GOOGLE IT, IF YOU DON’T KNOW :-P)

Okay keep the answer with you. You can verify after some time as I have given the answer of this question later section.

Emergency is a unique provision in the Indian Constitution. As we all know that India has adopted a federal polity. This simply means that there will be more than one government, one at center and the other in states or provinces. They enjoy their power in respective domain guaranteed by Constitution.

But during emergency, the federal polity of the country dramatically changes and it converts itself in to Unitary System. Center becomes way too powerful and can infringe the state’s authority, suspends the fundamental right of individual and can change the duration of the Parliament and state legislature. (I am mainly focusing on National Emergency, there are also other types of emergencies)

But this extraordinary situation may not occurs regularly hence these provisions has been seldom used. Constitution says that national emergency can be proclaimed on the ground when the “Sovereignty, integrity and security of India are under threat due to War, external aggression or armed rebellion”. Before 1978, the term armed rebellion was not used in constitution, rather the term was Internal Disturbance.

Now coming to the answer of the question: How many times in our country, emergency has been imposed?”

 The answer, contrary to many opinions, is THREE, and not ONE. Yes Sir/Mam our country has witnessed emergency three times since its independence.

First in 1962, when China attacked us in NEFA (present day Arunachal)

Second in 1971, when Pakistan attacked us during the Bangladesh Liberation war

Third in 1975, when Indira Gandhi Imposed Emergency based on her idea of Internal Disturbance.

Majority of us would have remembered emergency of 1975, which was imposed by Ms. Gandhi. Why? The answer is very simple, and that is the controversy which it has created. At numerous speeches of the political leaders and discussion among various people always talk about only this emergency, hence it has found its place in our memory  and we have forgotten or rather haven’t heard about other emergencies.

So I have given a RAM BAAN to you, if you are not able to remember anything for longer period of time, just create a controversy around it and it will be there with you forever. If you forgets some important dates (I am not saying the birthday of your special ones, it can be any date such as battle of Plassey :-P), just create a controversy and you will be surprised at your retention power.

Thanks for stopping by, hope all the crackers which you have bought for Diwali must have been detonated; if you don’t like bursting cracker and still you have please wait for next year for better returns by selling it on OLX, may be next time any judgement from the Honurable Judiciary will suspend the whole process in your city. 🙂

 

Static, really?

A feeling came inside me that I have become static and stagnant devoid of any adventure. Mother Earth came up with a unique explanation. “Son! You can’t be static as long as you are with me, didn’t you study basic science? You are rotating and revolving with me all the time with the tremendous speed, but irony is that you never feel it.” I smiled back on her response. 🙂

 

P.S.

Speed of Revolution of earth around sun= 30 Km/ Sec

Speed of Rotation of Earth on its axis= 1670 Km/ Hr