हम फँसे..

इन चौड़ी दरारों में आकर भी
जो हम जो न धँसे!!!
तेरी आँखों में था क्या ऐसा
जो आकर हम फँसे!!!

……अभय……

Advertisement