Tears..

 

Tear
Credit: Google Image

 

Tears rolled down from her eyes!

He asked “What’s this and Why?”

She uttered “It’s the outburst of emotions that can’t be divulged in words, nor can be kept in silence, through this salty water I just find its expression”

Advertisements

Who is responsible?

Technology has shaped the human civilization in a way that it seems an irreversible process now. Many of the technological tools such as mobile phones or televisions have become necessary in modern time and they are no longer construed as luxury and rightly so. Few of us can even ignore hunger for a day, but can’t suppress the urge to check the notifications of various applications of our cell phone(s).

Technology has helped us immensely and made our life much easier than ever before. We can definitely say that our present human civilization has been the most comfortable society in materialistic terms in compare to any of the past societies.  (I am not saying that, at present, we are the happiest of all as comfort and happiness are altogether different phenomena). But at times technology shows its other side, which may not be pleasant at all.

Embed from Getty Images

Few days ago, I had a trip to Bangalore or Bengaluru as now they call it. During my stay, I used its public transport system “the Namma Metro” on quite few occasions. It was overall a good experience except for one instance and that one instance was not inside the metro but at one of its stations. In whichever cosmopolitan city of India you would be in, one aspect will always remain common and that is huge crowd in all the public places. Banglore is also no exception to it and neither was its metro system.

So on that day when I was entering to one its station, like many others, I also preferred to use a “technological tool” called “escalator” or the moving staircase to get down. You would presume that what is special about it, it is so common these days. But I have mentioned it with a reason here. The reason is that it was overcrowded on that place and it deviated from its usual performance. Have you ever thought or experienced what will happen when a moving stair case would abruptly stop? If you never experienced, don’t wish for it. Because, experiencing the Newton’s First Law i.e. “Law of Inertia” on escalator may not be pleasing one for sure.

So on that day, when I was unprepared like others, the escalator suddenly stopped unexpectedly. The experience was just like as someone has applied a power brake in your car on seeing a possibility of collision. But we are generally prepared for the brakes in vehicle but remain casual on escalators and never expect a brake.  Everybody on board became shaky and some even fall over. I was fortunately holding the side railing which prevented me from tumbling. But suddenly someone from back fell over me. When I turned back, it was a young beautiful lady! I saved her from falling on the rugged staircase, I was proud of my achievement.

But, she was embarrassed, ashamed and whispered “I am sorry”. Without thinking too much I said “Thank You!!!”  She became puzzled and retorted “What? What did you say?” Sensing here unease, I quipped “You have made a wrong choice of words, instead of saying sorry, you should say me thanks as it was not your fault and since I have saved your beautiful face from getting defaced, I might be obliged by a Thanks rather than a Sorry”. She smiled. I thought my sense of humor worked and there was an instant reward for it. She asked “What’s your name?” But before I could have answered her there were huge uproar on the ground. Few people were shouting vehemently in a language that I hardly could have understood, but I could sense their anguish. There was a hurdle there and in mid of the hurdle a lady in her mid 30s was crying profusely. Taking the advantage of my height, I tried to peep in the hurdle, but since the language was alien to me,  I couldn’t understood what was going on there. I thought she also might have fallen from the escalator, but there were no visible mark of injury no blood on the floor, no mark of scratches on her face. Then few minute later, someone from the crowd spoke the language which I could have discerned. He said that the lady was pregnant and due to abrupt stoppage of the escalator she fell off from three or four steps atop and now she is agonized about her wellbeing of her impending child. I saw a lot of people were consoling her, but she was incessantly crying. This is probably one pain which half of the population could not have understood.. I realized, only signs of scar are not the sole representation of the pain, some pains are too heavy that scars can’t depict it. Since I had a preoccupied schedule, I had to leave that place. But few question kept hitting me?

Who should be held responsible, if something mishap had happened to the child, who is still not in the world?

  1. Government?
  2. Metro Authority?
  3. Operating Staff?
  4. Manufacturer of the Escalator?
  5. Technology itself?
  6. The lady herself, as she was not holding the side railing as precautionary measure
  7. The Karma of the Child, as Sanatan Philosophy says that one’s fate is also decided by its karma in past life.
  8. Or, combination of all these factors

I didn’t find the answer of the question, even after pondering it over and again. I reached my accommodation at night after having an eventful day, through the same metro route and via same station where the incident has happened. I was checking the notifications on my phone  and then suddenly remembered something “Someone had asked my name today!!!”

 

Note: Needless to say to my readers that I some time write fiction, inspired by some real events. You are free to Judge which event was real in this story and which one was my fictitious narration.

Trust

Recently, I went on to visit Mumbai to my maternal uncle’s home. During my stay, one day I accompanied with my cousin brother (age in 14-15) to a vegetable market nearby our-residence, to purchase some vegetables. On going there I saw many vegetable sellers queued up. I stopped at one shop and started to ask about the prices of different vegetables. But suddenly, my cousin pulled me towards him and said “Not From Here”. I was surprised by his gesture. Since I have asked the price of different vegetables and didn’t purchase any, I made an apologetic gesture towards the shopkeeper and moved away.

After moving some distance, I asked the reason for pulling me from that vegetable shops. He said “The shop keeper is a cheater and a liar.” I smilingly asked “why, how he cheated you”?

He responded with a story:

“Generally, mom come up for purchasing the items of grocery and vegetables, she never allows me to purchase anything which I desperately want due to intrinsic commission which I can accrue from it and also get a chance to move out of my flat. On one day, with great difficulty I persuaded papa and he allowed me to go to the market to purchase some Brinjal or Eggplant (Baingan in hindi) so as to make “Baingan Ka Bharta”, which my mom vehemently resisted. She was having a doubt that I will not be able to make distinction between good and bad quality. But since, I had a go ahead with papa, he gave me some money and I ran away, ignoring the mom’s resistance. On reaching market, I was very cautious that, this a best opportunity for me to proof that how pragmatic and wise I can be in purchasing the articles of everyday use and if I can do it better this time form next time onward, my family will give me all the contracts of purchasing it and in turn I will make my margin and commissions, and chances to move out.

But a dilemma came, since I have never been alone here in the market for purchasing any commodities, I went to the same vegetable shopkeeper, where I stopped you, and requested him to give a one kilogram or two, brinjal, but asked him to make sure that the quality should be absolutely fine irrespective of the price. He talked me very nicely and said that you take it with you without any doubt, we sell the best product, and not a single brinjal is of bad quality. I think, I have paid him the highest price, above the prevailing price in the market, without having a commission for me to have candy and returned happily home.

On returning home, I was excited and said to mom to see how good a quality of brinjal I have brought. But when my mother chopped it, she found every single brinjal Rotten and having filled with pests. My father looked at me, my mom looked at me, I looked at both of them one by one and both started to laugh in a manner, as if, someone has liquidated the nitrous oxide (laughing gas) in my flat. My mom told “you see! why I don’t allow you to go in the market”. I was ashamed, embarrassed and apologetic. I was extremely angry on that vegetable shopkeeper as he ruined my entire career. They say the first impression is the last impression and here was my first impression. On that day I have decided that from next time onwards, if I get a chance, I will never ever purchase anything from that shopkeeper and that is the reason why I stopped you from purchasing it from that shop”

I burst into laughter on his sheer innocence. I consoled him and said even to date, I am also not good at all these, so no need to worry.

On returning towards apartment, I recalled the whole narration. Thought, what can be morale of the story? Why my younger brother is not willing to visit again to shopkeeper? The answer lies in “Breaking of Trust”.

trust
Why he laughs even in the air:  he is having a trust that his father will catch.              Image Credit: Google Image

 

Trust is a very small word but having a deep, profound meaning and implication in our life.  A quality hard to develop, takes years, if not centuries, to build, but shatters in seconds. The opposite of trust can be construed as doubt. Doubt is like friction. More the friction it’s harder to walk. Trust is opposite to doubt. More the trust, walking or advancement become very fast without any fuss. In relationships also if doubt remains, it is bound to die. No one can stop it from crumbling. To maintain the trust, is not easy, it demands sacrifice, courage to speak truth, a straightforward character, an indomitable will to face hardships. With sheer trust, impossible can be achieved.

Trust is Peace, Trust is Truth,Trust is Love and they say Love is Life.

सैद्धांतिक विषय :-P

“भाई जानते हो इस बार Medicine का नोबेल पुरुस्कार किसको और क्यों मिला ?” मैंने जैसे ही ये बात अपने छोटे भाई को बतानी चाही तो वह अन्यमनस्क (absent minded) सा व्यवहार करने लगा और कहा कि उसमे से कुछ पैसे मुझे थोड़े ही न मिल जायेंगे और ऊपर से बायोलॉजी. मैं हँसा. पर चुकि मेरे मन में बात बैठ गयी थी कि आज तो इसको ज्ञान दे के ही छोड़ना है.

मैंने कहा अच्छा छोड़ो एक सैद्धांतिक बात बताता हूँ. संसार में दो तरह के लोग होते हैं. एक तो वह जो घड़ी के काँटों के हिसाब से काम करता है, उठता है, खाता है, नहाता है, खेलता है, पढता है, फेसबुक चलाता है वग़ैरह-वग़ैरह. दूसरा वह जो घड़ी के काँटों को अपने हिसाब से चलाता है. जैसे वह जब उठेगा, तभी सुबह होगी, जब नहाने का मन होगा तभी बारिश, जब भूक लगी तभी कोई जलसा होगा और जब नींद लगी तभी रात.

भाई बोला “ये तो ठीक है पर मुझे लगता है एक और कैटेगोरी (Category) होनी चाहिए.” मैंने पूछा कौन सी”?
उसका जवाब मजेदार था. उसने कहा “तीसरी कैटेगोरी वैसे लोगों कि होनी चाहिए, जो करना तो चाहते हैं घड़ी के काँटों के हिसाब से काम पर हो जाता है उल्टा और फिर बाद में होता है अफ़सोस. मुझे ही लीजिये न, पांच दिन से रूटीन बना रहा हूँ कि 5 बजे सुबह उठूँगा, पर लगता है मेरी घड़ी में में सुबह के पांच का काँटा है ही नहीं, चार बजे के बाद सीधे सात बज जाते हैं”

बात तो जायज़ थी, आपके साथ भी ऐसा होता होगा, नहीं? मेरे साथ तो सदियों से ऐसा ही चला आ रहा है

मैंने भाई से कहा “तुम जानते हो इसका कारण क्या है”? उसने लपक के कहा “कौन नहीं जनता, आलस है और क्या”
मैंने कहा ये तो बराबर है, पर एक और कारण है. उसने अपना मुँह प्रश्नवाचक चिन्ह (Question mark) की तरह बनाया. मैंने बोला “हरेक जीव के शरीर में एक बायोलॉजिकल क्लॉक (biological clock) होता है, हमारा शरीर एक फिक्स पैटर्न (fix pattern) में काम करता है. सोने का समय, जागने का समय, भूख लगने का समय आदि. इस निश्चित पैटर्न को Circadian Rhythm कहते हैं. यदि किसी का ये पैटर्न टूटता है, इसमें कुछ अनियमितता आती है तो इसका बुरा प्रभाव शरीर पर आ सकता है”. वह उत्सुकता के साथ सुन रहा था और फिर प्रश्न किया कि “तब तो मैं देर से उठता हूँ तो ठीक ही करता हूँ, क्योंकि मेरा Circadian Rhythm शायद इसी तरह है”. मेरे भाई ने सिद्धांत के प्रयोग में थोड़ी भी देर नहीं की.  मैंने कहा “नहीं, अगर रात में बिस्तर पर यदि तो WhatsApp या YouTube पे Video देखना बंद कर दो तो इस Rhythm को बदला जा सकता है”.

उसने पूछा “आपको कैसे पता चला ये सब”? मैंने कहा इसी Circadian Rhythm की खोज के लिए इसबार के Medicine का नोबेल पुरुस्कार मिला है.
अब वह अपने चेहरे पर झूठा गुस्सा और छोटी सी मुस्कान लिए बोला “खुश तो बहुत होंगे आप, समझा दिया न मुझको इसबार के Medicine के नोबेल पुरुस्कार मिलने का कारण”. मैंने भी अपने सामने के कुछ दांतों की प्रदर्शनी लगा दी. 😀

आप भी Circadian Rhythm के बारे में विस्तृत जानकारी ले सकते हैं, मज़ेदार है.

लाभ हानि और सम्बन्ध ..

मेरे दादा जी कहा करते थे कि शहर और गांव में एक बड़ा अंतर यह है कि शहर में कुत्ते घर के अंदर रहते हैं और गायें घर के बाहर, पर गांव में गायें घर के अंदर होती हैं और कुत्ते घर के बाहर. जब दादा जी गांव छोड़ कर शहर को आये, तो गावों की यह प्रवृति को अपने से दूर नहीं रख पाए. शहर में गावों जैसा बड़ा घर तो नहीं होता, पर फिर भी उन्होंने घर के पीछे के हिस्से में एक गाय को रखने की व्यवस्था कर ही ली. काफी लम्बे समय तक एक गाय हमारे घर पर थी. पर मैंने जब से होश संभाला मैंने किसी गाय को अपने घर में नहीं देखा.

दादा जी ने बताया था  कि परिवार बड़ा हुआ तो गाय को रखने की जगह काम हो गयी. परिवार को गाय के ऊपर तवज्जोह देना तो लाजमी ही है. पर वो कहते थे कि जब मैं ऑफिस से वापस आता था तो मेरा पूरा समय उसकी देख भाल में बीत जाता था. जब वो नहीं रही तो एक खालीपन सा लगता था. मैं दादा जी कि भावनाएं शायद समझ नहीं सकता था क्योंकि जब तक लगाव न हो तब तक भावनाओं को समझना नामुनकिन होता है.

मेरे पापा के मित्र हैं अवस्थी जी. हैं बेहद करीबी. हमारा उनके घर आना जाना लगा रहता है और उनका मेरे घर आना. उनका घर शहर के बहरी छोड़ पर है. मैंने अवस्थी जी को इस लेख में इसलिए खींच के लाया कि उनके घर में भी एक गाय है, नाम है उसका लक्ष्मी. वो है सफ़ेद रंग की. मैं जब भी उनके घर जाता हूँ तो उससे, परिवार के एक अज़ीज़ सदस्य की तरह जरूर मिलता हूँ. मुझे भी लगता है कि शायद वो भी मुझे पहचानती है. जब भी मैं उसके गले के नीचे हाथों से सहलाता हूँ तो वो बड़ी खुश लगती है और ऐसा व्यवहार करती है कि मैं उसको सहलाता ही रहूँ. अवस्थी अंकल कह रहे थे लक्ष्मी बहुत दिनों से घर में है और परिवार के एक हिस्से की तरह. भारतीय दर्शन में गायों का बहुत महत्व है. यहाँ भगवान को भी गोपाल (गाय के चरवाहे) की तरह दिखाया गया है.

मैं कुछ दिनों के लिए शहर से बहार गया था. लौटा तो अवस्थी अंकल के घर भी गया. थोड़ा अचंभित हुआ यह देख कर कि आज वहां लक्ष्मी नहीं थी. आंटी ने बताया कि वह अब वह बूढी हो गयी थी तो उसको हमलोगों ने स्वतंत्र कर दिया.
यह सुनकर मुझे धक्का लगा और मैं सोचा कि “जब वह जब बूढी हो गयी तो स्वतंत्र कर दिया” क्या स्वतंत्रता, बूढ़े होने के बाद किसी काम की होती है? मुझे लगा कि शायद वह अब दूध देने में सक्षम नहीं थी तो घर से निकाल दिया गया. सारे सम्बन्ध भी तो आज कल “Give and Take” सिद्धांत पर चलते हैं!!!

तभी अवस्थी अंकल भी आये. वे थोड़े उदास थे. उन्होंने कहा कि हमारा भावनात्मक लगाव हो गया था लक्ष्मी से. हम रोज उसको दिन में खुला छोड़ देते थे, दिन भर घास चर के वो शाम को ठीक 5 बजे आ जाती थी. घर में कोई भी बीमार होता तो न जाने उसके आँखों से आंसुओं की धार अनायाश ही बहने लगती. हमारे लिए भी उसको बाहर छोड़ने का निर्णय कठिन था.
जब हमने तय किया कि आज से उसका घर खुले में होगा और उसकी जिम्मेवारी उसकी खुद की होगी, उस दिन भी वो शाम को ठीक 5 बजे घर आयी और माँ… माँ… कर हमे पुकार रही थी और शायद कह रही थी कि मैं बहार से घास चर के आ गयी हूँ मेरे लिए दरवाजा खोलो. एक पल के लिए लगा कि खोल दूँ पर चुकि परिवार में निर्णय हो चूका था तो मैं चाह कर भी नहीं खोल पा रहा था. वो माँ.. माँ.. कर चिल्लाते हुए वहीँ पड़ी रही और सो गयी. अगले दिन भी वही हुआ. दिन भर कहीं से घूम कर आयी और फिर से शाम को 5 बजे फिर माँ… माँ… कर पुकारने लगी पर हम सभी निष्ठुर और निर्दयी की तरह बर्ताव करते रहे और पीछे का दरवाजा नहीं खोला. 5-6 दिन ऐसे ही चला. फिर शायद हमारे निर्दय होने का एहसास उसे हो चला था तो उसने आना बंद कर दिया.

अब वह घर के सामने एक मैदान में ही रुकने लगी. उसके आँखों के नीचे हमेशा आंसुओं की धार रहती थी, शायद उसके आंसू अब स्थायी हो चले थे. ऐसा लगता था कि उसकी आँसुएँ मुझसे चीख चीख कर पूछ रही हों कि “मेरी गलती तो बता दो, घर से बेघर क्यों कर दिया”? मैं निशब्द, निरुत्तर बना रहा. 2-3 महीने तक हम उसे रोज मैदान में देखते रहे. पर अब वह इस मैदान में भी नहीं दिखती. यह सब कहकर अवस्थी अंकल चुप हो गए.

मैं सब मौन हो कर सुन रहा था. मन विषाद के गर्त में गोते लगा रहा था. भावनाएं उमर रही थी. लक्ष्मी के गले पर जब मैं हाथें सहलाता था वह अनुभव जीवंत हो उठा…क्या कहीं ऐसा तो नहीं कि लक्ष्मी ने मुझे भी पुकारा हो कि शायद मैं वापस उसे उसके घर में वापस ले आऊं…….कहाँ गयी होगी लक्ष्मी …कोई उसे ले तो नहीं गया..और यदि ले भी गया तो किस उद्देस्य से ले गया होगा….

प्रतिस्पर्धा / Competition

आज दोपहर को खाने पर एक संबंधी के यहाँ जाना हुआ. सामान्यतः मुझे बाहर किसी के घर जाकर खाना, तबकी जबकि आप अकेले बुलाये गए हों, पसंद नहीं हैं . पर उनका काफी दिनों से आग्रह था तो मैं तैयार हो गया. उनके घर पहुँचा तो काफी खातिरदारी हुई. और खातिरदारी किसे अच्छी नहीं लगती.

उनके घर में बहुत सी बातें हुई. मेरे बारे में, घर के बारे में, मेरे प्रोफेशनल कैरियर के बारे में. मैंने भी कुछ कुछ बातें पूँछी. बात चीत के क्रम में यह पता चला की उनका लड़का रोहित इस बार ग्यारहवीं में गया है और हर माँ बाप की तरह उनको अपने बेटे के भविष्य की चिंता सता रही थी कि आगे जा के लड़का क्या करेगा.

उन्होंने बताया कि रोहित पढाई में औसत है, खेल में भी रूचि नहीं लेता और उसका कोई और शौक भी नहीं है. वे बोले कि हम यह नहीं चाहते कि रोहित सिर्फ पढाई करे बल्कि हम चाहते हैं कि उसको जो भी पसंद हो वो वही करे. अफ़सोस है कि वह अपनी रूचि जाहिर ही नहीं करता. जिससे की जीवन की दिशा तय करने में उन्हें परेशानी आ रही है . उन्होंने मुझसे आग्रह किया कि मैं उससे बात करूँ. शायद वह मुझे कुछ बताये.

मैंने बोला “ठीक है, मैं कोशिश करता हूँ कुछ बात करने की”. फिर बात-चीत के बाद हम खाने पर बैठ गए. वैसे सच कहूँ तो मुझे इसका इंतज़ार भी था, भूख जोरों की लग गयी थी और बातों  से पेट तो नहीं भरता ना. खाने में मेरी पसंदीदा शब्जी शाही पनीर, मशरूम, दाल मखनी, रोटी, पुलाव और अंत में मिठाई के दो-तीन प्रकार थे. खाना शानदार बना था. अंगुली चाट के खाने लायक. पर मैंने थोड़ी सभ्यता और शिष्टाचार का परिचय देते हुए अंगुली नहीं चाटी.

मैं और रोहित ने खाना साथ में खाया और खाने के पश्चात उसने मुझे अपने कमरे में आराम करने को कहा. सच कहूँ तो मैं भी उससे अकेले में ही बात करना चाहता था. उसका कमरा बहुत खूबसूरत था. अल्बर्ट आइंस्टीन की एक बड़ी सी तस्वीर जिसमे वह अपने जीभ को निकले हुए थे, दीवाल से लटक रहा था. एक तरफ की अलमारी साजो सज्जा के सामान से भरी पड़ी थी तो दूसरी ओर पुस्तकों, कॉमिक, नोवेल्स से भरी थी.

यद्यपि हमारे परिवार का सम्बन्ध काफी घनिष्ट है, पर मैं बहुत दिनों से उनके घर नहीं गया था. रोहित जब छोटा था तो मैं उसको बहुत समय अपने साथ रखता था., तब वह मेरे घर के बहुत करीब रहता था. और फिर मैं भी शहर से बाहर चला गया, तो उन लोगों से बातचीत और संपर्क न के बराबर ही थी.

आज क्रिकेट का मैच आ रहा था तो मैंने सोचा कि बात चीत शुरू करने का इससे अच्छा साधन भारत में और कुछ नहीं हो सकता. बात चीत से पता चला कि उसको कम उम्र के बावजूद क्रिकेट के बारे में बहुत कुछ पता था. फिर मैंने पढाई के सम्बन्ध में बातें भी की. मुझे वह बहुत प्रभावशाली लगा. मैंने उससे पूछा की आगे क्या करना चाहते हो?? उसने लपक कर जवाब दिया, “पापा ने आपसे पूछने को बोला क्या”?
मैं  हँसा और बोला “नहीं, नहीं बस यूँ ही पुँछ रहा हूँ, क्या पापा हमेशा ऐसे ही टार्चर (Torture) करते हैं ?”. उसने कहा “हाँ ऐसा ही समझिये, पर मैंने अभी सोचा नहीं है कि मुझे क्या करना हैं “. मैंने पूछा “क्रिकेट के बारे में इतनी बारीकी से जानकारी रखते हो तो क्या क्रिकेटर बनना चाहते हो”. उसने जवाब नकारात्मक में ही दिया. फिर वह स्वतः ही बोला “मुझे इंजीनियर बनना है.”

मैंने कहा “अरे वाह ! यह तो अच्छी बात है. तो फिर समस्या क्या है” उसने कहा “मैंने सुना है कि IIT- JEE की परीक्षा जो देश कि सर्वोत्तम इंजीनियरिंग संस्थान है उसमें कॉम्पटीशन  बहुत ज़्यादा और कठिन होता है. मुझे लगता है कि मैं उसको पास नहीं कर पाउँगा, पर यह भी बात सच है कि मैं उसके अलावा कहीं और नहीं पढ़ना चाहता.”

मैं समझ गया कि रोहित का उद्देश्य तो है और वह उसको पाने में सक्षम भी है पर परीक्षा में लाखों की संख्या में प्रतिभागी होते हैं और वह उससे जनित प्रतिस्पर्धा से डर रहा है. मुझे समस्या तो समझ आ गयी पर मैं उसको कैसे समझाऊँ, यह समझ नहीं आ रहा था.
तभी अचानक, उसके कमरे से कुल्फी वाले कि घंटी सुनाई दी. मैंने पूछा कि तुम कुल्फी खाओगे. हमारे शहर में गर्मी जोरदार और कुल्फी शानदार मिलती है. तो अगर आपको डॉक्टर ने मना न किया हो तो आप दोपहर में कुल्फी खाये बिना रह नहीं सकते.

Kulfi
Credit: Google Image

तो हम कमरे से बाहर निकल कर लॉन में आये और रोहित ने कुल्फी वाले को आवाज़ लगायी. वह हमारी तरफ बढ़ा. टन टन की घंटी हमारे करीब आ गयी और साथ करीब आया उसको बेचने वाला. उम्र रोहित के बराबर या एक दो साल छोटी ही होगी. रोहित ने कहा दो कुल्फी देना, और वह उसको देने में व्यस्त हो गया. मेरा ध्यान उसके पहनावे पर गया. उसके कमीज़ के एक कंधे का भाग की सिलाई खुली हुई थी शर्ट में नीचे से एक दो बटन खुलकर कहीं गिरे होंगे ऐसा प्रतीत हो रहा था, ध्यान उसके चप्पल पर गयी तो थोड़ी और हैरानी हुई, उसके दोनों पावों में अलग अलग चप्पलें थी, एक में लाल रंग का फ़ीता था दूसरे में नीले रंग का.

इसी बीच एक और लड़का आया. उसकी उम्र मेरी ही जितनी रही होगी, वही २५-२६ साल की. उसने कुल्फी वाले से कहा की कुल्फी बना के पीछे वाली सड़क में आना. उस कुल्फी वाले लड़के ने मना कर दिया और बोला “मैं नहीं आऊंगा”. मैं थोड़ा हैरान हो गया कि कोई भी दुकानदार अपने ग्राहक से इतनी खीजता से तो बात नहीं ही करता है. फिर उस लड़के ने कुल्फी वाले से कहा “बेटा, आना तो पड़ेगा ही” और कह कर चला गया. मुझे माजरा समझ नहीं आया. पर कुल्फी वाले की आंखे सहम सी गयी थी.
खैर उसने कुल्फी तैयार किया और हमे बढ़ा दी. मैंने दाम पूछा तो, उसने ५० रुपये बताये. इसी बीच रोहित अपने जेब से 50 का नोट निकल कर देने लगा. मैंने कहा “औकात में रहो बच्चे, बड़ा मैं तो मैं ही दूंगा”. वह हँसने लगा और मैंने उसे नोट बढ़ा दी.

हम लॉन में कुल्फी खाने लगे. कुल्फी शानदार थी. एक शानदार खाने के बाद एक लज़ीज कुल्फी और वो भी चिलचिलाती गर्मी में. मज़ा आ गया. हम दो चार बार से ज़्यादा नहीं खाये थे की अचानक बाहर से शोर गुल और अफ़रा तफरी की आवाज़ आने लगी. बाहर झांक कर देखा तो दो लड़के उस कुल्फी वाले बच्चे की धुनाई कर रहे थे. एक ने उसके गले को पकड़ा हुआ था और दूसरा उसके कुल्फी के बक्से को ज़मीन पर उलट दिया . कुल्फी का छोटा छोटा डिब्बा, जिसमे कुल्फी जमती है ज़मीन पर बिखर गयी . कोई डिब्बा हरे रंग का था, कोई लाल तो, कोई नीला. मैं दौड़ कर उसकी ओर भागा . मेरे पीछे रोहित.
मुझे आता देख दोनों लड़के भागने लगे उसमें से एक चिल्ला कर बोला “कल से दिखना मत” और वे नज़र से ओझल हो गए. कुल्फी वाला लड़का अपने ठेले के बगल में बैठ अपनी बिखरी हुई कुल्फी की तरफ देख कर रो रहा था. ऐसा लग रहा था मनो किसी के ख्वाब ज़मीन पर बिखर गए हों. रोहित और मैं कुल्फी के डिब्बे को एक एक कर उठा कर उसके ठेले में रख रहे थे. वह अब भी ज़मीन पर बैठा था मनो उसका पूरा मनोबल टूट कर बिखर गया हो.
मैंने उससे पूछा की “आखिर हुआ क्या, उन लड़कों ने तुम्हे क्यों मारा”? उसने अपने साहस को जुटा, अपने शर्ट के बाजु से आँख को पोछते हुए कहा “वो दोनों भी कुल्फी वाले हैं. मुझे मना किया था इस इलाके में आने से क्योंकि वो कहते हैं ये उनका इलाका है .मैं दूसरे मोहल्ले में गया था पर वहाँ बिक्री नहीं हुई. ठेला और ये बक्सा किराये पर लिया है. एक दिन का दोनों मिलाकर 100 रूपया. बिकेगा नहीं तो चुकाऊंगा कैसे. घर में माँ बीमार है, छोटी बहन का स्कूल फी है”. मैंने पूछा पापा क्या करते हैं? उसने कहा “दारू पीकर कहीं पड़े होंगे”. मैंने पूछा “अब  तुम क्या करोगे”. उसने बड़ी दृढ़ता से जवाब दिया “क्या करूँगा? यही करूँगा कि कल फिर इसी मोहल्ले में आऊंगा और यहीं कुल्फी बेचूँगा, देखता हूँ वो कितना मारते हैं.

मैं हैरान, हतप्रभ. इसी बीच मेरी नज़र रोहित पर पड़ी, उसकी आँखों से आंसू धरल्ले से निकल रहे थे. मुझसे नज़र मिलते ही उसका ह्रदय और भर आया और अपनी जेब में से 150 रुपये (जो शायद उसके पास उतने ही होंगे) निकाल कर कुल्फी वाले बच्चे की हाथ में थमा घर की ओर भागा. कुल्फी वाले बच्चे ने उस पैसे को रख लिया और मुझे धन्यवाद कहकर ठेला लेकर जाने लगा. वह ठेले की  घंटी को बजा बजा कर लोगों को सूचित कर रहा था कि कुल्फी वाला आया हैं, सिर्फ लोगों को सूचित ही नहीं उस घंटी की  आवाज़ में उन दोनों लड़कों को चुनौती भी थी कि वह लड़का डरने वाला नहीं हैं.

रोहित घर में, ठीक उसी के उम्र का कुल्फी वाला मेरी दूसरी ओर ठेला लेकर बढ़ रहा था. मैं बीच में खड़ा न आगे बढ़ पा रहा थे न पीछे जा पा रहा था. तभी रोहित घर से निकला. जाते समय उसकी आँखों में आँसू थे, पर अब उसका चेहरा मुस्कुरा रहा था. उसने कहा  “उस लड़के के कॉम्पटीशन   के आगे मेरा कॉम्पटीशन  तो कुछ भी नहीं हैं . मैं IIT -JEE की तैयारी करूँगा, पुरे मन लगा के. माँ पापा को आप बता दीजियेगा.”

यह कौन सा मौसम है?

 

 

jp
Jubilee Park, Jamshedpur. Credit: Google Image.

 

शाम को पार्क में बैठा था. हवा में ठंडक थी, मानो पेड़ एयर कंडीशन में बदल गये हों. उसके हरेक झोके मन को सुकून पहुँचाने वाले थे.

तभी, अचानक एक लड़के ने “चिप्स, आलू का चिप्स ” की आवाज़ लगायी. मेरी ओर बढ़ा और पूछा क्या आप लोगे ? मैंने उसे देखा. 14-15 साल का होगा. चेहरा मासूम सा. मैंने पूछा कितने के दिए? उसने कहा 10 की एक पैकेट. फिर, मैंने उससे नाम पूछा और पूछा कि कहाँ रहते हो. उसने नाम बताया “मुन्ना” और जहाँ रहता था उस बस्ती का नाम बताया. फिर मैंने पूछा कि स्कूल नहीं जाते? उसने बोला “हाँ जाता हूँ न, मैथ्स में कुछ पूछिये”.

उसका आत्मविश्वास देख में हतप्रभ था. शायद ही मैं किसी को इतने विश्वास से कुछ पूछने को कह पाता. मैंने कहा एक पैकेट दे दो. उसने चिप्स के बोरे में से एक पैकेट मेरी तरफ बढ़ा दी और पूछा कि पानी की  बोतल भी लेंगे? मैंने कहा नहीं, इसकी जरुरत नहीं है.

मेरी जिज्ञासा उसमे बढ़ी और पूछा कि पापा क्या करते हैं. उसने कहा “गोलगप्पे बेचते हैं, आप सोच रहे होंगे कि मुझे चिप्स क्यों बेचना पड़ता है”. मैं चुप रहा, वो खुद बोलने लगा “मेरी दसवीं की परीक्षा है और आगे मुझे और पढ़ना हैं. इंजीनियरिंग करना हैं. उसके लिए कोचिंग लगेगी. तो मैं शाम के खाली  समय में कभी कभी आकर बेचता हूँ. ज़्यादा नहीं पर थोड़े सही पैसे तो बच जायेंगे, जो बाद में काम आएगी नहीं तो सारा बोझ पिताजी पर आ जायेगा”.
तभी अचानक सिटी की आवाज़ सुनाई दी, दो सिक्योरिटी गार्ड मेरी तरफ दौड़ा, मुझे समझ नहीं आया कि हुआ क्या? तब  वो लड़का भागा. मैं हैरान. कुछ दूर तक गार्ड ने दौड़ाया, पर उसकी दौड़ काफी तेज थी, गार्ड मोटे थे, थक कर रुक गए. फिर वापस आने लगे.

मेरे मन में शंका हुई कि लड़का कहीँ चोर-वोर तो नहीं. गार्ड सामने से गुजर रहे थे, मैंने पूछा गार्ड साहब, उसको दौड़ाया क्यों? गार्ड साहब बोले “बदमाश हैं साले, बार बार मना करो फिर भी नहीं सुनते, पार्क में चिप्स या और कोई चीज बेचना मना हैं. प्लास्टिक का पूरा कचड़ा फ़ैल जाता हैं”.

चोरी वाली बात सोच मन मे लज्जा आयी. गार्ड भी अपनी ड्यूटी पर थे, पर लड़का अपनी ड्यूटी से ज़्यादा कर रहा था. रिस्क लेकर भी. तभी अचानक याद आया की इस अफरातफरी में मैंने तो उसको पैसे दिए ही नहीं और वह जाने कहाँ चला गया. सोचकर अच्छा नहीं लग रहा था. चिप्स का पैकेट लिए मैं घर की तरफ निकला. पार्किंग में लगी अपनी गाड़ी में जैसे ही चाबी लगायी की वो लड़का वापस आया और बोला “भैया पैसे”? सच कहूँ तो आज तक किसी को पैसे देने में इतना मज़ा नहीं आया था. जेब से 100 का नोट निकाला और बढ़ा दिया उसकी ओर उसने 90 रुपये वापस किये और मुस्कुराते हुए दूर जाने लगा …वह जिधर जा रहा था वहां अंधकार था, शायद  सरकार के  स्ट्रीट लाइट की रौशनी वहां तक नहीं पहुंचती होगी.

रात ढली और घर पहुंचा. खाना खाने के पश्चात, जब सोने की बारी आयी तो गर्मी का अनुभव हुआ, पंखा को 5 पर करके सोना पड़ा. रात ज्यों ज्यों ढली तो ठण्ड भी बढ़ने लगी, २ बजे के आस पास चादर शरीर पर जगह बना चुकी थी. 5 बजे नींद खुली तो देखा, पतली कम्बल ने भी मुझ पर अपना कब्ज़ा जमा लिया था. उठा तो ठण्ड थी. नहाने के लिए पानी को थोड़ा गुनगुना करना पड़ा. घर से निकला तो बाहर पार्क में घास पर ओस की बूंद पड़ी थी, मानो बारिश हुई हो रात में. 9 बजे थे, धुप तो निकल चुकी थी पर हवा के चलने से तपिश का एहसास न था. पर दो पहर के खाने के बाद, जब बाहर खुले में निकला, तो ग्लोबल वार्मिंग का प्रत्यक्ष आभास हुआ. सोचा की फूल शर्ट पहनना ही ठीक था. पीने का पानी तो ठंडी ही जच रही थी. पेड़ के अधिकांश पत्ते पीले पड़कर, उसका साथ छोड़ रहे थे. पर कुछ नए पत्ते शाखों पर दिख रहे थे, मानो पेड़ की उम्मीद अभी बची हो…..
इतनी विविधताएं, यह कौन सा मौसम है …..बसन्त 🙂

 

मुन्ना के जीवन में कभी कोई ऐसा समय आया होगा कि वह सोचे कि अभी कौन सा मौसम है?