सूक्ति (Beautiful Thought)

Sanskrit is world’s oldest language. They say “Old is Gold”. But the decline in Sanskrit suggests that we have not valued the Gold. There may be many reasons of its decline. One of the foremost reason was that we remained under the control of foreign rulers for way too long period (nearly 1000 years, isn’t it a very long period ?). Whenever any foreign power reins its subject, their first attack is on the cultural aspects of their occupation and to promote their own culture to the natives.

Anyway I am not going in to the details of the apathy of Sanskrit, because reflection in past never fetches any substantial gain but the present action can, however past can be a chaperone.

Today I am starting a new series in my blog, named “सूक्ति/ Beautiful Thought”

“सू+उक्ति; सू =अच्छा, सुन्दर ; उक्ति = विचार “.

It will consist texts, verses, thoughts, quotes, anecdotes etc. from Sanskrit language with its translation. I will try to write those episodes which will be relevant to our day to day life. The source of my quote will be multiple. Texts may be from Srimad Bhagavad Gita, Bhagwat Puran, Vedas, Upanishad, Quotes from various personalities such as Chanakya.

My purpose is that through this small initiative readers will feel proud about our great heritage and can develop some interest in knowing them. India was known as “Golden Bird” at the time, when Sanskrit was rife. I am not saying that there is some connection between it, but I also believe that it can not be a mere coincident.

Here is the first one ..

text1

संस्कृत दुनिया की सबसे पुरानी भाषा है. लोग कहते हैं “ओल्ड इस गोल्ड “. लेकिन संस्कृत में गिरावट से पता चलता है कि हमने “गोल्ड” को महत्व नहीं दिया है. इसकी गिरावट के कई कारण हो सकते हैं. सबसे महत्वपूर्ण कारण यह था कि हम विदेशी शासकों के नियंत्रण में बहुत लंबे समय तक रहे (लगभग 1000 साल, क्या यह बहुत लंबी अवधि नहीं है?)। जब भी किसी भी विदेशी शक्ति ने अपने अधीन पर शाशन करती है तो उनका पहला हमला अधीन के सांस्कृतिक पहलुओं को नाश्ता करना और अपने सांस्कृतिक पहलुओं को उनपर थोपना होता है.

फिर भी मैं संस्कृत की उदासीनता का ब्यौरा में नहीं देने जा रहा हूं, क्योंकि सिर्फ अतीत झाँकने से किसी भी महत्वपूर्ण लक्ष्य की पूर्ति नहीं करता है, लेकिन वर्तमान में काम करने से यह प्राप्त किया जा सकता है, हालांकि अतीत एक सीख का काम कर सकती है

आज मैं अपने ब्लॉग में एक नई श्रृंखला शुरू कर रहा हूं, जिसका नाम रखा है “सूक्ति ” . इसमें संस्कृत भाषा से पाठ, छंद, विचार, उद्धरण, उपाख्यानों आदि शामिल होंगे। मैं उन लेखों को लिखने का प्रयास करूंगा जो हमारे दिन-प्रतिदिन जीवन के लिए प्रासंगिक होंगे। मेरे उद्धरण का स्रोत एकाधिक होगा. ग्रंथों में श्रीमद् भगवद गीता, भागवत पुराण, वेद, उपनिषद, चाणक्य जैसे विभिन्न व्यक्तित्वों से उद्धरण भी हो सकते हैं।

मेरा उद्देश्य यह है कि इस छोटी सी पहल के माध्यम से पाठकों को हमारी महान विरासत के बारे में पढ़कर गर्व महसूस होगा और उन्हें जानने में कुछ रुचि पैदा हो होगी। भारत को “सोने की चिड़िया” कहा जाता था, जब संस्कृत व्यापक थी। मैं यह नहीं कह रहा हूं कि इसके बीच कुछ संबंध हैं, लेकिन मेरा यह भी मानना है कि यह एक संयोगमात्र नहीं हो सकता।

 

Pondicherry: A Short Trip

I had an opportunity to visit Pondicherry in mid January this year. One of my friend Abhishek, was staying there and studying at Pondicherry Central University. He had invited me to visit that place several times, but as this was his last year of academics in that varsity, so I finally decided to go.

Pondicherry was formally a French colony till 1962. When rest of the India was in British occupation, Pondicherry was an exception along with Goa, Daman etc. to name a few.

I landed in Chennai and from there it took another two and a half hour to reach Pondicherry. Though it was January, when rest of the Northern India was in the grip of the winter, days at that place especially in Chennai was hot. Eventually night was very pleasing in Pondicherry as the cold breeze from Bay of Bengal was blowing incessantly. I stayed there for 4 days and visited some Temple, Church, Aurobindo Ashrama, market places, Auroville, a nearby historic place called Mahabalipuram which is nearly 100 Kms from Pondicherry. But in evening I preferred to be in Gandhi beach and enjoyed the song of the waves when it came to meet the shore.

The trip was overall good and enriching, yet my last lap was adventurous. You must have heard that Jallikattu protest was in full swing in Tamlinadu in recent past month. The day when I had to return to Chennai, some political outfits has called complete shutdown of the state including transportation system. So virtually it became impossible to reach to Chennai Airport, yet through the grace of Lord I reached to the Chennai Airport just before boarding time. I came there by hitchhiking all along Pondicherry to Chennai. It’s a very interesting story, which, if I get time, will definitely love to write. Google Map came to my rescue at many occasions 🙂

If you are planning to have a visit in South India or especially in Chennai, do take out at least two days to visit Pondicherry. It’s beautiful. But don’t go in summer. I think November to January will be an ideal time to visit.

Sharing you some of the pictures, which I have taken from my Mobile Camera. Hope you will like them.

IMG_20170119_065330_new
Sunrise and A Trawler
IMG_20170119_065641_HDR_new
Other side of the Beach
IMG_20170119_080309_new
Sailing together even on turbulent waves, not only just when water is still & stagnant
IMG_20170119_162603_new
Gigantic Golden Globe. Got to know that people get inside the globe for meditation. Yet I missed it. 😦
IMG_20170119_162135_new
Many Roots of a single tree, Clicked in Auroville
IMG_20170117_132248_new
Shore Temple, Mahabalipuram.  Built in 700-728 AD by Pallav Dynasty. Architecture marvel
IMG_20170117_124048_new
Lord Shiva and Mother Uma inside the temple
IMG_20170117_140031_new
Lord Vishnu
IMG_20170117_135146_new
Guiding Lamp
IMG_20170120_134534_new
Bye Bye Chennai and finally Laut ke buddhu ghar ko aaye 😛

आठ मार्च

wmd
Credit: greatinspire.com

 

आठ मार्च

ममता का ऐसा नज़ारा
क्या दिखता कहीं जहाँ में
स्नेह का सागर उफनते देखा है
मैंने माँ की आँखों में

बहने जब राखी से
कलाइयाँ सजाती हैं
भुजाएं मानों स्वतः ही
असीम शक्ति पाती हैं

कष्टों का पहाड़ जब
सीधे सिर पर आता है
जग छोड़ दे अकेला ,
तब भी वो साथ निभाती है
हाँ वो , धर्म पत्नी कहलाती है

त्याग का ऐसा सामूहिक नज़ारा
शायद ही कहीं नज़र आता है
बचपन से जवानी जिस घर में वो बिताती हैं
एक झटके में सबकुछ छोड़ आती हैं
हाँ वो, बेटी कहलाती है

चेहरा शर्म से झुक जाता है
आँखे नम हो जाती है
जब समाचारपत्र में
भ्रूणहत्या, बाल विवाह, घरेलू हिंसा, और रेप की ख़बरें
अब भी जगह बनाती है
स्मरण रहे कि,

युद्धक्षेत्र में बन
रणचंडी भी वो आती है
शत्रुओं के वक्ष में
अपनी शूल धसाती है

ओलिंपिक में जब हम
मुह लटकाये भाग्य कोसते होते हैं
तो वे कर पराक्रम
भारत की लाज बचती है

भारत सोने की चिड़िया या विश्व गुरु
तभी तक कहलाती है
नारी का सम्मान जब तक
यह धरा कर पाती है
………अभय ……….

हिंदी का जश्न मनाते हैं…

हिंदी का जश्न मनाते हैं…

आज़ादी के इतने वर्ष बीत गए,

फिर भी हम खुद को

अंग्रेजी के अधीन क्यों पाते हैं ?

क्यों नहीं हम अब भी

हिंदी का जश्न मनाते हैं?

 

पश्चिम से है, तो बेहतर है

यह सोच इस कदर घर कर गयी है

हिंदी हमारी प्यारी,

कहीं पिछड़ कर रह गयी है!

सिर्फ अंग्रेजी पर ही नहीं

अंग्रेजियत पर भी हम प्रश्न उठाते हैं

क्यों नहीं हम अब भी

हिंदी का जश्न मनाते हैं?

 

बदल गया है दौर,

शब्दों के चयन भी बदल जाते हैं

“नमस्ते” कहने से ज़्यादा लोग अब,

“हाय , हैल्लो” कहने में गर्व पाते हैं

बच्चों को “मछली जल की रानी” के बदले

शिक्षक अब, “जॉनी जॉनी” का पाठ पढ़ाते  हैं

क्यों नहीं हम अब भी

हिंदी का जश्न मनाते हैं?

 

जब चीन, चीनी में है बोलता

जर्मनी जर्मन में मुँह खोलता

रशियन रुसी में आवाज़ लगाते हैं

तो फिर भारतीय ही हिंदी से क्यों शर्माते हैं

क्यों नहीं हम अब भी

हिंदी का जश्न मनाते हैं?

 

शान हमारी हिंदी है

अभिमान हमारी हिंदी है

पहचान हमारी हिंदी है

हिंदी का गुणगान हम करते जायें

हिंदी का जश्न मनायें

………..अभय ……….

 

 

नोट: जिन भारतीय को “हिंदी” से समस्या है उनसे अनुरोध है कि वे मेरी कविता में “हिंदी” के स्थान पर अपनी क्षेत्रीय भाषा जैसे तमिल, तेलगु, मलयालम, बंगाली या  मैथिलि का उपयोग कर सकते हैं  :-), मुझे कोई परेशानी नहीं है.

 

Why most Hindus are cremated but some are buried?

Why most Hindus are cremated but some are buried?

Recently when Jayalalitha, a very popular leader of South Indian state Tamilnadu, died, it produced unprecedented shock waves across the country. After her demise, unlike most of the Hindus, she was buried and not cremated. It was baffling for me as well as for many others that why there are two pronged approach in same religion. Then I searched for the reason of this exception. Whatever the understanding I got, presenting it in the blog. But you are also entitled to get differed from my opinion

Why Hindus are cremated?

It is important to know that in Hinduism, saints and sages came to conclusion that Jivas (Humans are one of the Jivas) are not their body but the eternal Soul and Soul never dies. It just changes the body. This concept is known as Transmigration of the Soul.

immm

This is substantiated in one of the most revered scripture of Hinduism,

Bhgavad Gita 2.13

 dehino ‘smin yatha dehe
kaumaram yauvanam jara
tatha dehantara-praptir
dhiras tatra na muhyati

As the embodied soul continually passes, in this body, from boyhood to youth to old age, the soul similarly passes into another body at death. The self-realized soul is not bewildered by such a change.

One more essential pillar of the Hindu doctrine is “Moksha”, along with “Dharma”, “Artha”and “Kaam”. Moksha in it’s literal sense means “to be free”. Now the question will be Freedom for whom and from what? So this freedom is for the Soul and from this material conditioning that is from perishable body.

According to Vedic injunction, when a person attains Moksha, then he/she doesn’t come in this material world again and either merges with Bramhan (Super Soul) or resides with the Lord in his abode which is permanent unlike this world.

So when a person dies, he has to leaves his body, but since he has spent a long time with this body, he develops attachment for it. When anyone is attached with any person or object then a desire to associate with it for longer duration of time, remains inside him. But the desire to be in this perishable body is conflicting with the real objective i.e. to be free and attain Moksha. Hence by burning the body, soul can witness and realise the temporary nature of the body and hence the will ultimately crave for Moksha.

But saints and children are cremated

There are some exceptions to it. Saints and Children, when they die, there is a Provision for them to buried. The reason for it, which I have understood after reading some text and hearing from some specialists in this subject, is as follows.

Saints and sages (I am talking about real ones which are few in number yet existing, not the bogus which has proliferated and made religion a business), in their whole life time goes through severe penances, meditations, rituals, sacrifices, association with the pious personality etc. By going through all these process they not only knows but become self realized that the body which they got is perishable and ultimate objective is to attain Moksha. Hence after this realization, the body which they got becomes purified from the material contamination such as lust, greed, anger, enviousness, attachments etc. Since they have no attachment for the body, hence they are buried.

One more consideration which I came across is that, the real Gurus, sages or the pious personality come to this material planet just to relieve the ones which are suffering in this world due to the ignorance that they are soul, not the body. So even though they appear like ordinary human beings, yet they are the direct messenger of the Lord, hence they are not having any longing for their body. They just finish their duty and leave their body.

There is also a provision to bury the children. The reason for this, which I have read is that since they die at very young age and hence they don’t develop so much longing and attachment for themselves. Hence they are buried.

Now coming to the point of why Jayalalitha is buried, I am not able to figure out the real reason other than the whims of her follower, as she was not and ascetic personality and of course, neither a child.

The uniqueness of Hinduism lies in the fact that it is a very liberal. If you are worshiping idol still you are Hindu, not worshiping it makes no difference, even if you are atheist you can accommodate in Hinduism. That’s why Indian Supreme Court termed, Hinduism as a “Way of Life”. This also very much true for the last right. When majority cremates the body, yet you will find exceptions to it.

अनुभव

कुछ दिनों पहले मुझे एक आध्यात्मिक  कार्यक्रम में जाने का अवसर मिला. उसका एक भाग सांस्कृतिक भारत के प्रदर्शन को समर्पित था. उस कार्यक्रम में भारत के कुछ सांस्कृतिक नृत्य जैसे भरतनाट्यम, ओडिशी और कुचिपुड़ी प्रस्तुत किये गए. कार्यक्रम की काफी सराहना हुई. पर सच कहूँ तो मुझे नृत्य में उतनी रूचि न होने के कारन, मैंने कार्यक्रम में उतना ध्यान नहीं दिया. सांस्कृतिक कार्यक्रम समाप्त हुआ और अंत में मुख्य वक्ता का उद्बोधन हुआ. मेरे मन में उनके प्रति विशेष सम्मान है और इसलिए उनके उद्बोधन का इंतज़ार भी था. उनके उद्बोधन की एक पंक्ति ने मुझे कला के प्रति दूसरे ढंग से सोचने पर मजबूर किया. उन्होंने कहा  ” We should not crave for defeating the world through arms and ammunition, rather we should try to win them through our Incredible Culture.” (हमें विश्व को हथियारों और असला बारूदों से नहीं हराना है, बल्कि उनको अपनी अतुल्य संस्कृति से जीतना  है)

घर लौटा और सोचा तो उनकी बात बहुत ही प्रासंगिक लगी. अमेरिका आज विश्व में सुपर पावर है इसका मतलब सिर्फ यह नहीं की उसकी सिर्फ आर्मी  शक्तिशाली है बल्कि इसका असर अलग अलग आयामो में भी  दिखता है. ब्लू जीन्स, मैकडोनाल्ड या सबवे में खाना, अमेरिकन बैंड को सुनना, विश्व की अर्थव्यवस्था को डॉलर में आंकना इत्यादि सब सांस्कृतिक पहलु ही तो हैं. मैंने आज तक एक भी ऐसा उदहारण नहीं देखा कि किसी ने नक़ल कर परीक्षा में प्रथम स्थान पाया हो, हाँ पास जरूर हो सकते हैं. हमें अब यह तय करना होगा की हम भारत के लिए क्या सिर्फ पास होने से संतुष्ट हैं या कुछ और चाहते हैं?

संस्कृति के अलग अलग आयाम हैं. उसमें कला एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है. नाच-गान, साहित्य, कविता, नाटक इत्यादि इसके अंग हैं. भारत विविधताओं से भरा देश है. यहाँ की विविधता दुनिया के किसी भी देश से ज़्यादा है. यह हमारी शक्ति हो सकती है, सिर्फ भरोषा करने तक की देरी है.

अब मैं आपको कला के क्षेत्र में ले चलता हूँ। विद्यापति मैथिलि में वही स्थान रखते हैं जो बांग्ला में रविंद्रनाथ  या अंग्रेजी में विलियम शेक्सपीयर. मैथिलि, बांग्ला और उड़िया में काफी समानता है, कारन यह कि तीनो की उत्पत्ति एक ही भाषा परिवार (Indo-European language Family) से हुई है. विद्यापति के बारे में कहा जाता है कि वे शिव जी के अनन्य भक्त थे, पर उनकी कविता में राधा कृष्णा का भी वर्णन आता है. उनकी ऐसी ही एक कविता मैंने पढ़ी और मुझे बहुत अच्छी लगी . मैं जनता हूँ कि आज कल हिंदी पढ़ने वालों कि संख्या में भारी गिरावट आ गयी है और मैथिलि जैसी स्थानीय भाषाओं का हश्र तो और भी बुरा है. फिर भी मैंने सोचा कि शिकायत करने के बजाये कुछ काम किया जाये .

तो आज मैं विद्यापति की कविता को आपके समक्ष रखूँगा हिंदी, मैथिली, बांग्ला  समझने वाले थोड़ा प्रयत्न करने पर समझ जायेंगे, पर थोड़ी तकलीफ होगी जरूर. इसलिए मैंने उसका अनुवाद भी कर दिया है. पर, इसकी भी गारंटी नहीं की अनुवाद १०० फीसदी सही होगी. अनुरोध है कि भाव को समझिये|

विद्यापति ने इस कविता में  भगवान श्री कृष्णा द्वारा राधारानी को रिझाने के प्रयाश का वर्णन किया है

अम्बरे वदन झपावह गोरी
राज सुनैछिअ चांदक चोरी ||1||

हे गौरवर्ण वाली राधा! आप अपना मुख आँचल से ढक लो
सुना है आज चाँद की चोरी हो गयी है

घरे घरे पहरी गेल अछि जोहि
अबही दूषण लागत तोहि ||2||

घर घर जा कर प्रहरी इसकी जांच कर रहे हैं
देखना कहीं ये आरोप तुम पर न लग जाये

कतहि नुकाओब चंदक चोरी
जतहि नुकाओब ततहि उजोरि ||3||

आप अपने मुख रुपी चाँद को कहाँ छुपाओगी?
जहाँ छुपाओगी वही उजाला हो जायेगा

सुन सुन सुन्दरि हित उपदेश
सपनेहु जनु हो विपदक लेश ||4||

हे सुंदरी मेरे इस हितोपदेश को सुनो
जिसके सुनने से सपने में भी कभी विपदा नहीं आएगी

हास सुधारस न कर उजोर
धनिक बनिके धन बोलब मोर ||5||

आप हंस कर इतना उजाला न फैलाओ
वरना सभी धनवान को लगेगा की उनका सारा धन आपके पास है

अधर समीप दसन कर जोति
सिंदुर सीप वेसाऊली मोती ||6||

आपके अधरों के बीच से इस प्रकार प्रकाश फैला रहे है
माने सीप के बीच मोती राखी हुई हो

भनहि विद्यापति होहु निसंक
चन्दहू का किछु लागु कलङ्क ||7||

विद्यापति कृष्णा द्वारा राधा से कहते हैं की आप बिना शंका के रहो
प्रहरी को बता दूंगा जिस चाँद को वे ढूँढ रहे हैं  उसमें तो दाग है, पर ये तो बेदाग है|

 

आशा हैआप सभी पाठकों को कविता अच्छी लगी होगी, नमस्कार !!!