Mumbai Rains..

ये जो तुम जो हर पल नखरे दिखाती हो
आती हो, जाती हो फिर मुझपे छाती हो
मैं तैयार नहीं रहता, हरपल चौंकाती हो
मैं सूखता भी नहीं फिर भींगो जाती हो
लोगों की टोली पे तुम जो कहर बरपाती हो
ये जो लम्बी लम्बी ट्रैफिक जाम लगाती हो
वीकेंड की हर बार, ऐसी की तैसी कर जाती हो
फिर भी तुम मुझको रास आती हो, बरसते रहो

………अभय………

फुहारें..

 

फुहारें गिरती थी, तो पल-पल तुम्हें हम याद आते थे!
कहीं तेरा बसेरा आज-कल, किसी रेगिस्तान में तो नहीं!!

                                                                                                                  ~अभय

ओ मेघा !

 

Cloud
Clouds are building up in my city, Clicked it in the morning. A place, from where I love watching rains

ओ मेघा !

अलग सी प्रतीक्षा, अलग सा समां है

है आने को मेघा, सभी हर्षित यहाँ हैं

ओ मेघा!

इस बार मेरे छत के ऊपर

तुम आकर केवल मत मंडराना

जो दूर से आये हो तुम लेकर

उस जल को हम पर बरसाना


सूखी जमीं है, सूखा है तन

पीले पड़े पत्ते, रूखा है मन

ओ मेघा!

इस बार तुम अपनी भीषण गर्जन से

तुम हमे केवल मत डरना

जो दूर से आये हो तुम लेकर

उस जल को हम पर बरसाना


नदियां भी प्यासी, कुँए हैं प्यासे

बूंदों को तरसते, हम भी ज़रा से

ओ मेघा !

इस बार अपनी बिजली की चकाचौंध से

तुम आतिशबाज़ी केवल मत कर जाना

जो दूर से आये हो तुम लेकर

उस जल को हम पर बरसाना

…..अभय….