मेघा फिर से आएगा

तुम किसी तेज नदी सी
मैं मिट्टी का, दोनों किनारा
चिर अन्नंत से हो मानो जैसे
मैंने दो बाहें पसारा
तुम तीव्र , प्रवाहमान
कल-कल ध्वनि से गुंजमान
मैं मूक, गुमनाम!
तुम तेज बहती गयी
मैं तेजी से कटता गया!
कण कण मेरा तुममे
घुलता गया , मिलता गया
ये कहानी तबकी जब की
सब कुछ हरा भरा था
पर अब रूखा-सूखा है
तुम संकरी हो चली
किनारों से दूर कहीं खो चली
सब हैं कहते हैं कि
सागर से ही, तुम्हारा वास्ता है
मेरी उपस्थिति तो किंचित, एक रास्ता है
पर मैं अटल हूँ, आश्वस्त हूँ
कि तुम फिर से आओगी
फिर मुझे छू जाओगी
कि मेघा भी तो फिर से आएगा

…….अभय …….

Oh, I love rivers. Sitting on the banks of it, is my favorite task. I have also talked about my this hobby in some of my previous posts. Many of my poetry has taken its shape on these places. Sharing a latest one.

हिंदी साहित्य की जिस विधा का मैंने अतिसय प्रयोग इस कविता में किया हैं, उसे मानवीय अलंकार कहते है. आशा हैं आप तक सही शालमत पहुँचेगी.

Advertisements

विदाई

Photo Courtesy: pinimg.com

सुनो कि अब तुम हो नहीं कि
घर का हर कोना सूना है
सब उत्सव जीवन से गए कि
अब बस, मन ही मन रोना है

~अभय

Recently attended a marriage ceremony. I was from the bride side. Despite having tremendous work load, I saw the hollowness in the father’s heart and his feeling towards his only daughter. To portray that feeling in words is difficult especially if you haven’t gone through it. I wrote just four lines, hope you would like it!

दलीलें..


गम को मेरे जो तुमने हरदम, अपना गम बताया
वक़्त पड़ी तो ये सारी दलीलें, नहीं कभी मेरे काम आया

                                                                                         ~अभय

Uff.. Ye Breakups

One of my close friends came to me crying like as child. I asked “What happened?” and to make him feel easier and draw a smile from his face I conjoined another question “Did you have breakup?”

He was dead serious and replied “Yes, how did you come to know Abhay?”

 I said “What!!!”

 “When did it happen? I was just kidding”

He replied “A year ago!”

I exclaimed “What!!!”

“You didn’t tell me for whole one year. I never saw you unhappy either. One year is long time and even if it would have happened, you must have got over it by now! What happened today?” I fired several volleys on him.

His succinct reply was “I tried to keep it dormant since past 12 months but she keeps up popping every time I try to forget her. Now today the threshold has crossed, you are the first one whom I am sharing, please help me get out from this miserable condition. Please make me forget her”

I became perturbed seeing the terrible condition of my friend. He seemed inconsolable.

I thought for a moment and replied “Well, you have all my sympathies. I can do whatever is possible for me to do for you. But since I have never experienced such situation, I think I am not the right person to make you forget her”

He quipped “All the time you talked about yoga, spirituality and so many things…Was all of them fake? Doesn’t all this have a solution for my problem?”

I became silent.  I have helped quite a few times to some people. Sometime I helped them is passing semester exams, sometime some financial help etc. But this was unique help asked from me. I offered him to go for a dinner and assured him that we will discuss tomorrow about this topic and probably will reach to a solution.

We had dinner. He told me the whole happenings. I paid proper attention to him to each and every story that he was narrating.

 I realized, sometime attachments can be very excruciating.  In this world everything is nonpermanent, comes with an expiry date but when we recognize the other thing as our eternal belonging, then problems creep in.

We returned home. I drove him to his home.  I returned to my bed. Lying on bed,  my eyes were wide open. I thought, I have told him that I will talk tomorrow about how to be normal and forget her, but in reality I simply don’t know what to tell him, how to make him feel normal.

“Should I ask this from my spiritual mentor? No..No..what will he think about me!!! ” a thought reverberated in my mind.

Seeing no other alternative, I thought of turning to a universal Guru “Google Guru” and I am not joking and my intention of mentioning it is not to dilute the gravity of the situation, but my helpless condition where I was put in by my friend, seeing no alternative and the ubiquitous nature of the problem I thought “Google” might come handy. Actually, it was not Google, but one of its subsidiaries “YouTube”.

I switched on my Lap Top and typed the URL “www.youtube.com”.

A lot of suggestive videos came just after typing the URL. It was mainly those videos which I watched frequently. It was of cricket, politics, some funny videos etc etc.

A lightening has struck my mind. “YouTube has also memory” I murmured. Well, this was not unusual to have in YouTube or any other shopping sites. They use the technology called “BigData” to see our browsing pattern and then they floods with similar content, but since my friend was grappling with one memory issue (of course not of memory loss) this usual pattern seemed unique to me.

Machines are made to behave as humans. That is why artificial intelligence is a buzz word now. Isn’t it? If you are not convinced search two words “Sophia” and “Qiu Hao”

on Guru. You will get to know the extent where we are heading.

Anyway, coming to the point, I thought YouTube has a unique feature called “Delete History” and you can also customize it by deleting  memory of past hour, week, month etc. . If we delete history, problem is solved. No Suggestive Videos of your previously watched content. All new, Fresh and Pristine.

Alas! My friend doesn’t have that setting called “Selective Deleting of History”.

Memory can be a reason of serious pangs in life.

Disclaimer : I know, you all will treat it as an act of fiction, but from my end its my duty to convey the same that it’s fiction only 🙂 Happy wala Sunday Guys 🙂

रेस्टोरेंट का खाना ..

उम्र 13-14 की होगी. नीचे से उसके शर्ट के दो-तीन बटन टूटे हुए थे, जब वह दौड़ कर अपने पिताजी की तरफ़ आ रहा था तो हवा में उसकी शर्ट फैलने लगी, ऐसा लग रहा था जैसे आकाश में कोई विशालकाय पक्षी अपना पंख फैलाये उड़ रहा हो. पावों में चप्पलें तो थी, पर मटमैली सी,पुरानी और घिसी हुई..पर चेहरे के हँसी और ख़ुशी में कोई घिसावट नहीं. एकदम निश्छल, स्वछंद और आत्मविश्वास से भरी हुई..

रौशन के पिताजी ने उसके चेहरे के भावों को पढ़ लिया और ख़ुशी से पूछा “पास हो गए दसवीं?” रौशन ने कहा “पपा, दसवीं में हम जिले में तीसरे नंबर पर आएं हैं”. पिताजी, जो शहर के बाहरी छोड़ पर हो रहे निर्माण स्थल           (कंस्ट्रक्शन साइट) पर एक दिन में 200 रुपये की मजदूरी कर, वहां से 12 किलोमीटर दूर साइकिल चलाकरअपने छोटे से घर में दिन भर की थकान से चूर बैठे थे, अनायास ही उनकी सभी थकावटें जाती रही और उन्होंने भावविभोर होकर बोले “शाबाश, बेटा!!!”
साइकिल से अपने कार्य स्थल पर जाते हुए एक बहुत खूबसूरत रेस्टोरेंट को रौशन के पापा रोज देखते थे, और सोचते थे इसमें साहब लोग अपने दोस्तों, परिवार के सदस्यों के संग खाने को आते होंगे और यह भी सोचते थे कि किसी ख़ुशी वाले दिन वो भी अपने लोगों को लेकर इस होटल में जरूर आएंगे. पर उनके मन में संदेह रहता था कि क्या वहां का खर्च वो वहन कर पाएंगे, उनकी आमद ही कितनी ? यदि महीने के तीसो दिन काम करें तो भी 30 गुणे 200 मतलब 6000 के महीने. पर आज उनकी ख़ुशी का ठिकाना नहीं था और उन्होंने रौशन से कहा कि चलो आज तुम्हे ऐसा खाना खिलाएंगे कि तुमने खाया नहीं होगा. रोशन भी बहुत खुश, अपने पिता की ख़ुशी देख उसका सीना गर्व से प्रफुल्लित था.रौशन के पिता ने सोचा कि कितना महँगा होगा खाना, अपने दो दिन की कमाई को उन्होंने जेब में रख लिया और सोचा कि भले ही पूरी रकम खत्म भी ही जाये तो आज गम नहीं है

दोनों रेस्टोरेंट के गेट पर पहुंचे, गेट पर खड़े चौकीदार ने संदेह भरे आँखों से देखा, पर दरवाजा खोल दिया. रेस्टोरेंट को देख रौशन के मन में संदेह हुआ कि यह तो बहुत महँगा होगा और उसने अपने आशंका पिताजी को बताई, उसके पापा ने बोला कि आज ख़ुशी का मौका भी तो है, रौशन मुस्कुराया.

सामान्य लोग पहले किसी वास्तु का मूल्य पूछते हैं फिर चीजों को पसंद करते हैं, पर जो संपन्न होते हैं वो पहले चीजों को पसंद करते हैं फिर उसका मूल्य जानते हैं.
इसी प्रवृति का परिचय देते हुए कि कहीं खाने के बाद शर्मिंदगी न झेलनी पड़े इसलिए उसके पापा ने पहले खाने का दाम पूछना उचित समझा और रेस्टोरेंट के किसी कर्मचारी को बुलाकर उन्होंने ने जानकारी लेनी चाही..वेटर ने कहा एक प्लेट खाने की सबसे कम कीमत 500 रुपये! पिताजी के होश ही उड़ गए. उनके जेब में दो दिन की पूरी कमाई 400 रुपये थे, पर वह एक व्यक्ति के लिए एक वक़्त के खाने के लिए भी कम हो रहे थे. रौशन ने उनके चेहरे के बदलते हुए भाव को बख़ूबी पढ़ लिया. उसने बचपन से ही भावों को पढ़ना सीख लिया था. वेटर वहां से किसी और ग्राहक के पास चला गया .. रौशन ने अपने पापा से कहा “पपा, चलिए यहाँ से चलते हैं” पापा ने बोला “तुम कहीं नहीं जाओगे, यहाँ थोड़ी देर रुको, मैं घर से 100 रुपये लेकर आता हूँ, कम से कम तुम तो खा लोगे, मैं तुम्हें इतने शौक़ से लाया हूँ, भूखे नहीं जाने दूंगा” रौशन ने कहा “पपा, आपको लगता है हम ऐसा करेंगे? आप नहीं खाएंगे और हम यहाँ खा पाएंगे ?” पिताजी के आँखों में आँशु के कुछ बूंदें गहरी होने लगी थीं , और फिर उनके बेटे ने कहा कि “वैसे भी मुझे यहाँ का खाना अच्छा नहीं लगेगा, चलिए यहाँ से “. जो आँशु घने बादल के समान आँखों में मंडरा रही थी, अब उसने आँखों में उसने धार का रूप ले लिया था.. दोनों निकल ही रहे थे की वेटर ने पूछा “सर, आपलोग कुछ लेंगे नहीं?” रौशन ने कहा “आज नहीं, फिर कभी आएंगे”

गरीबी क्या होती है ??

 

आज शनिवार की छुट्टी थी, तो घर पर ही पड़ा था दिन भर. साढ़े 4 या 5 बजे होंगे, घड़ी नहीं  देखी थी . मेरी चचेरी बहन, जो 5 साल की है, सोकर उठी और ब्रश करने लगी. मैं और माँ हैरान हो गए, कि लोग सुबह और रात को ब्रश करते हैं, ये शाम में ही शुरू हो गयी. मैंने पूछा कि छोटी तुम अभी ब्रश क्यों कर रही हो? उसने बोला, “बड़ा भैया, आज गुड मॉर्निंग नहीं बोले आप”.
मैं और माँ को बहुत हंसी आयी और सारा खेल समझ आ गया. दोपहर में काफी लंबे समय तक सोने के बाद शाम भी उसे सुबह जैसी लग रही थी और वैसे तो उसको रोज जबरदस्ती करके स्कूल के लिए तैयार करना पड़ता है और वो आज खुद तैयार हो रही थी. माँ से पता चला कि मैंने भी बचपन में एक दो बार ऐसी हरकत की  थी. बचपन होती ही ऐसी है, है ना ?
तभी मेरे नाम से कोई पुकारने लगा,पापा ने बताया कि अन्नू (मेरे बचपन का दोस्त, लड़का ही है :-P) मिलने आया है. हम बहुत अच्छे दोस्त हैं, पर बहुत दिनों से मुलाकात नहीं हो पायी थी. बहुत दिन मतलब 5-6 साल. वह कहीँ और रहता है. मैंने उसे घर में बुलाया. अब शाम रात में बदल रही थी और किसी तरह छोटी को  भरोसा हो पाया कि यह सुबह नहीं, बल्कि शाम ही था.
मैंने दो चेयर लिया और अन्नू को  छत पर चलने को कहा. छत पर शांति भी थी और हवा भी अच्छी चल रही थी. बहुत सारी बातें हुई. नयी-पुरानी. बात चीत के क्रम में उसने बताया कि वह कल अपने किसी संबंधी के बारात में गया था, पर वह मुझे थोड़ा उदास सा लग रहा था. मैंने पूछा कि भाई सब ठीक तो है. उसने बोला कि हाँ सब मस्त है. पर मुझे वह मस्त कहीं से भी नहीं लग रहा था. मुझे याद है कि हम दोनों काफी करीबी दोस्त हुआ करते थे . हम अपनी लगभग सारी बातें एक दूसरे से साझा करते थे. पर अब समय काफी बीत गया था. मैंने फिर से पूछा कि भाई सब सही में अच्छा है ना?
उसने कहा, अच्छा एक बात बताओ ये “गरीबी क्या है”? मैं गरीबी क्या है, को परिभाषित कर सकता था, पर इस प्रश्न के लिए तैयार नहीं था, तो थोड़ा हिचकिचाने लगा और जो समझ आया बोला.

 

उसने कहा “कल कि एक घटना सुनोगे”? मेरे मन में बहुत अलग अलग विचार आ रहे थे. सोचने लगा कि शायद इन बीते दिनों वह शायद किसी बड़े आर्थिक संकट से गुजरा होगा. मुझे सोचता देख उसने झट से कहा, तुम्हे यह अजीब लग रहा हो पर मुझे तुम्हारे अलावा इसको शेयर करने वाला कोई और योग्य  नहीं मिला. मैंने कहा तुम सुनाओ घटना.
उसने शुरू किया. अब उसके शब्द ..
कल रात में मेरे सम्बंधित के घर से 8-9 बजे के करीब बारात निकली. मैं बहुत उत्साहित थे क्योंकि बहुत दिन हो गए थे किसी बारात में गए. माहौल भी बहुत अच्छा था, सबके चेहरे पर ख़ुशी, सबके चेहरे मुस्कुरा रहे थे, कोई जोक क्रैक कर रहा था तो कोई नए कपड़ों में तस्वीर लेने में व्यस्त था. दूल्हा, कार में पीछे, उसके आगे बारात. बारात के दोनों तरफ लाइट लिए हुए पंक्ति में बैंड बाजे वाले चल रहे थे. जैसा कि किसी भी अन्य भारतीय बारात में होता है. बीच में बैंड बाजे वाले अपने बाजे गाजे के साथ बारात में सामान्यतः बजने वाले गीत बज रहे थे.

14
Representative Image, Source: Google.

चुकि, मुझे नाचना आता नहीं और नाचने में  शर्म भी आती है तो मैं बस भीड़ में खड़ा देख रहा था, पर यह भी सच है कि गानों के धुन पर पैर थिरक रहे थे . तभी मेरी नजर एक बैंड बाजे वाले कि तरफ पड़ी. वह मुँह से फूक कर बजने वाला इंस्ट्रूमेंट (नाम नहीं पता, नीचे की तस्वीर में देखिये ) बजा रहा था और उसकी आँखों से आंसू आ रहे थे. मैं विचलित हो गया. मन तो किया कि उससे पूंछू कि क्या हुआ पर क्योंकि  वह बजाने में व्यस्त था और उसके चुप होने से सारे बाराती, जो सब नाचने में व्यस्त थे, का ध्यान उधर आता. मैंने सोचा कि हो सकता है वह नया होगा और बजाने में शक्ति तो लगती होगी, इस वजह से आंसू आ गए हों.  पर अचानक से बारात के बीच में से किसी ने आवाज़ लगायी अरे!!  ज़ोर से बजा… जोर से.. मेरे यार कि शादी है….और कुछ देर बाद एक नवयुवक (जो मुझे नशे में लगा) गाली गलौज पर उतर आया और कहने लगा पैसे दिए हैं जोर से बजा जोर से, दुबारा ये शादी नहीं होगी…

123
Representative Image, source: Google

तभी उस बाजे वाले जिसके आँखों  से आंसू बह रहा था उसकी इंस्ट्रूमेंट किसी और बाजे वाले ने ले ली और उसके हाथ में छन-छन करने वाली झालर पकड़ा दी. मैंने सोचा चलो ठीक है. पर मेरा ध्यान उसपर ही था. बीच बीच में मैं इधर उधर होता पर मेरा ध्यान पता नहीं क्यों उसपर ही टिका रहा. कुछ देर बाद देखा तो वह रो ही रहा था. अब तो मैं बस बारात पहुँचने का इंतज़ार करने लगा।

 

जल्द ही बारात पहुंची और मैं सीधे उसके पास. 35-40 के बीच में उसकी उम्र होगी. मैंने पूछा, क्या हुआ भैया कोई तकलीफ. वो चेहरे का रंग गिरगिट कि तरह बदल के बोला “नहीं नहीं बाबू कोई बात नहीं . हो सकता है कि उसने सोचा हो कि मैं उसकी क्लास लूंगा.  पर मैंने फिर उससे पूछा कि  बजाते समय रो क्यों रहे थे. अब मानो कि उसके दर्द की  बाँध टूट गयी हो. वो फबक कर रोने लगा और बोला “बाबू  मेरा बेटा कल गुजर गया . वह 15 साल का था. डॉक्टर बाबू बोले रहे कि ठीक हो जायेगा, 17 दिन तक इलाज भी होता रहा, महाजन से 35 हजार कर्जा भी लिए पर वह कल गुजर गया गया. मैं यहाँ बैंड बाजा बजा रहा हूँ, झाल बजा रहा हूँ… आकाश में पठाखे देख रहा हूँ… लोग नाच रहें हैं… मेरा बेटा मर गया….
इसी बीच मेरे एक संबंधी, जो शायद सिगरेट पीने बहार आये थे,  ने मुझे वहाँ देखा और बोले चलो अंदर यहाँ क्या कर रहे हो..मैंने बोला आप चलिए मैं बस आता हूँ. उसकी व्यथा सुनकर उसके दर्द का आंकलन करने में भी मैं असमर्थ था . मैंने पूछा,  तो आज आये क्यों? उसने बोला बाबू  गरीबी लाती है खींच के, हम कहाँ आते हैं. कर्जा चुकाना होगा महाजन का 35,000 का 6 महीना बाद 50,000 लेगा. हम कहाँ से पैसा लाएंगे. दिन भर मजदूरी किये, ये बारात का मौषम बार बार नहीं आता है. चला गया तो बहुत दिन बाद आता है. बेटा चला गया पर घर में दो बेटी है, पत्नी है, काम नहीं करेंगे तो खाना भी मुश्किल होगा.
मेरी आँखे भर आयी. मुझे लग ही नहीं रहा था कि मैं बारात में आया हूँ. पॉकेट में हाथ डाला 1500 निकले, उसके हाथ में थमाने लगा. पहले तो उसने बहुत मना किया पर मैंने शादी कि बख्शीस बता के दे दी. उसने आशीर्वाद में कुछ बोल बोले, मैंने ध्यान से सुना नहीं मेरे मन में बस एक ही बात चल रही थी…बेटा खो गया और उसको बैंड बजाना पड़ रहा है, झाल बजाने पड़ रहे हैं, लोगों को नाचता देखना पड़ रहा है, पटाखे जलाते देखने पड़ रहे हैं…

 

उसने कहा “अभय, गरीबी कुछ और नहीं, यही है” और कह कर चुप हो गया. घटना पूरी तरह झकझोरने वाली थी. और जिस तरह मेरे दोस्त ने वर्णन किया वह भी अद्वितीय था. मुझे उसपर गर्व हुआ कि उसने दर्द को देखकर अपना चेहरा नहीं फेरा. वह आज भी पहले की  तरह था, मुझे खुद पर संदेह हुआ कि क्या मुझे अब लोगों का कष्ट नहीं दीखता.

 

तभी माँ हमारे लिए गर्म-गर्म समोसे और इमली की चटनी बना के लायी. मैंने अपने दोस्त को  देखा उसने मुझे और फिर उसने  समोसे को उठाया. वह मुस्कुरा रहा था. माँ ने पूछा समोसे कैसे बने हैं ……