दलीलें..


गम को मेरे जो तुमने हरदम, अपना गम बताया
वक़्त पड़ी तो ये सारी दलीलें, नहीं कभी मेरे काम आया

                                                                                         ~अभय

बेख़ौफ़!

बेख़ौफ़! अँधेरी रातों में, हाथों में लिए दीया , ये कौन चल रहा है?

हैरान हूँ! मैं इस ज़माने से, जाने क्यों वो उससे, इस क़दर जल रहा है?

                                                                                                                                             ~अभय