दह जाता है..

स्वार्थ, दम्भ औ’ गर्व का पिंजरा
लटकता टँगा रह जाता है

प्रेम का पंक्षी दह जाता है
इतिहास सदा ये कह जाता है
….अभय….

The cage (Selfishness and Pride) burns the bird (Love). This is happening since generations.

जो नज़रों से गिर जाएँ..

पतझर में पेड़ों से पत्ते,
नीचे गिर आते हैं
वसंत आते ही पेड़ों पर पत्ते,
वापस से आ जाते हैं
जो नज़रों से गिर जाएँ
उनके उठने का
कोई मौसम नहीं होता

……अभय……

When to speak…Whom to speak

बसंत तो अब बीत चुका है

कुहू तो बस अब मौन रहेगा

क्षितिज पर कालिख बदरी छायी है

सब दादुर अब टर-टर करेगा

                                       ~अभय

 

Spring has gone

Cuckoo will not sing any more

Dark clouds are hovering in the sky

Oh! It’s time for the frogs

                                                                                                 ~Abhay

 

कुहू- कोयल
दादुर- मेढ़क

आप पंक्तियों को खुद से जोड़ पाए तो मैं अपनी सफलता मानूंगा..