Floating

boat (2)
Clicked it in the morning, via my phone camera  🙂

Don’t lament,

just because

you are bereft of a boat

to sail over the river,

there are hell lot of other objects

which have the tendency to

 float over the ocean.

 

~Abhay

Advertisements

21 thoughts on “Floating

  1. जीवन के कई अर्थ शायद आपको अच्छा लगे——

    मैं भी एक रेस का घोड़ा था,
    वो ठहर गयी मैं ठहर गया,
    मैं था गुलशन का शहजादा,
    वो क्या ठहरी सब ठहर गया,
    मैं एक मुशाफिर सागर का,
    वो प्रेम ही मेरी नौका थी,
    वो रूठ गयी मैं ठहर गया,
    वो क्या ठहरी सब ठहर गया।
    वो जश्न मनाती दुनियाँ में,
    मैं शोक में डूबा एक राही,
    मैं भूल गया था जीवन में,
    सब मतलब के ही हैं साथी,
    मरने के अगर बहाने सौ,
    जीने के लाख ठिखाने हैं,
    मैं एक मुशाफिर सागर का,
    क्यों नदी में जान गवांते हैं,
    वो नदी किनारे तरस रही,
    मैं सागर पार बिंहशता हूँ,
    सच कई ठिकाने जीने के,
    मैं कल से ज्यादा हँसता हूँ,
    मैं भी एक रेस का घोड़ा था,
    वो बदल गयी मैं ना बदला।

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s