ढोंग ..

ढोंग

ढोंग करना अच्छा लगता है
तब, जब कि हम
धनवान हों तो, निर्धन का
ज्ञानी हों तो, अज्ञानी का
विनम्र हो, फिर अभिमानी का
होश में हैं, बेहोशी का
मदिरा छुई नहीं, मदहोशी का
राज़ पता हो, फिर ख़ामोशी का
जगे हुए हों, फिर सोने का
हर्षित मन हो, फिर रोने का
हरपल संग हों, पर उन्हें खोने का
भक्त हो ,तो अभक्ति का
कोमल ह्रदय हो, तब सख्ती का
मुखर हो, फिर मौन अभिव्यक्ति का
ढोंग करना अच्छा लगता है
…..अभय……

Advertisements

24 thoughts on “ढोंग ..”

    1. Agyani to Gyani dikhne ka hamesha prayash karte hi rahte hain, par jab aap kuch jaante ho aur anjan banane ka prayash karte ho tab wo dhong ya swang rachna majedar hota hai
      Shukriya ki aapne padha aur saraha.

      Like

  1. बेहतरीन रचना।👌👌👌
    तब और अच्छा लगता
    जब हमारे ढोंग को वे हकीकत समझते
    जगे थे हम वे सोए समझते।
    नशे में नहीं पर नशे में समझते,

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s